Cesarean

Diet Chart Post Cesarean Delivery

माँ बनना हर नारी के लिए बहुत ही सुखद पल होता है| जो किसी भी नारी को पूर्णता देता है| ये बात भी बिल्कुल सच है की एक बच्चे को जन्म देते समय एक माँ का भी नया जन्म होता है क्योंकि नौ माह तक अपने अंदर बच्चे को रखने के बाद ही वो उसको दुनिया में लाती है|

माँ बनना हर नारी के लिए बहुत ही सुखद पल होता है| जो किसी भी नारी को पूर्णता देता है। ये बात भी बिल्कुल सच है की एक बच्चे को जन्म देते समय एक मां का भी नया जन्म होता है क्योंकि, नौ माह तक अपने अंदर बच्चे को रखने के बाद ही वो उसको दुनिया में लाती है। और अगर उसकी डिलीवरी सामान्य ना होकर सिजेरियन (cesarean) से होती हैं, तो उसका शरीर और भी कमजोर हो जाता है तब जरुरी है की वो अपने खान-पान का खास ख्याल रखे।

इसके इसके लिए जरूरत है उसको एक सही डाइट चार्ट की ताकि वो अपने लिए ऐसे भोजन का चुनाव कर सके जो उसके शरीर को ताकत दे। ये लेख प्रयास है उन मांओं के लिए जिन्होंने सिजेरियन डिलीवरी (c-section) के जरिये अपने बच्चे को जन्म दिया है।

डाइट चार्ट (Diet Chart)

प्रोटीन युक्त भोजन

नवजात शिशु और नई मां दोनों के लिए प्रोटीन से भरा भोजन बहुत जरुरी होता है, क्योंकि प्रोटीन के सेवन से ही शरीर की पुरानी कोशिकाओ को मजबूती मिलती है और नई कोशिकाओं का निर्माण भी तेजी से होता है जिसके कारण मां का स्वास्थ्य जल्दी से अच्छा होता है। इसलिए अपने भोजन में मीट, दाले, सब्जी, फल व दूध और दूध से बनी चीजें जैसे पनीर, दही, मक्खन, छाज घी आदि चीजों का सेवन करे परन्तु अपने शरीर की जरुरत के हिसाब से क्योंकि जरुरत से ज्यादा प्रोटीन भी हानिकारक होता है।

कैल्शियम युक्त भोजन

नवजात शिशु और उसकी माता के लिए कैल्शियम से भरा भोजन बहुत जरुरी होता है क्योंकि दोनों की ही हड्डियों को मजबूती कैल्शियम से ही मिलती है। इसके जरिये ही माता और शिशु दोनों की ही नसें मजबूत होती है उनमे सही तरह से रक्त का संचार होता है, दूध व दूध से बनी सभी चीजें जैसे दही, पनीर, चीज हरी सब्जियों फल अंकुरित अनाज आदि कैल्शियम देने वाली मुख्य चीजें होती है इनको शरीर की जरुरत अनुसार सेवन करने से मां व बच्चा दोनों स्वास्थ्य रहते हैं।

विटामिन युक्त भोजन

सी डिलीवरी के बाद मां के शरीर को नये टिशू बनाने में विटामिन ही मदद करता है जिससे उसके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को ताकत मिल सके, पालक और पत्तेदार सब्जियां, हरी व सूखी मेथी, तरबूज, खटास वाली सब्जी और फल विटामिनों से भरे होते हैं इसलिए इनका उचित मात्रा में आपको सेवन करना चाहिए।

फाइबर युक्त भोजन

सी डिलीवरी के बाद कब्ज होना एक आम बात है। कब्ज माँ और बच्चे दोनों को परेशान करता है इसके साथ ही अगर कब्ज ज्यादा समय तक बना रहता है, तो माता के आपरेशन के बाद लगे टांके खुलने और उनमे पस पड़ने का भी डर बना रहता है, इन परेशानी से बचने के लिए माता को चाहिए की वो फाइबर से भरा भोजन करे। इसके लिए हरा पत्तेदार सलाद, फल, रागी, ओट्स आदि खाने से पर्याप्त मात्रा में फाइबर माता को मिल जाता है।

मुख्य बात

सिजेरियन डिलीवरी के बाद माता को इस बात का विशेष ख्याल रखना चाहिए की वो ऐसी चीजें खाये जो की आसानी से हजम हो जाये और उनके पोषक तत्व उसको सही रूप में तुरंत ही मिल जाये, साथ ही अपने डाक्टर से सलाह लेकर कुछ घरेलू दवाओं जैसे- जीरा पानी, अजवायन का चूरन, हल्दी का दूध आदि भी लें। और जल्दी अपनी सी सेक्शन डिलीवरी को रिकवर करना चाहती हैं तो अपने डाक्टर से सलाह करके संतुलित भोजन के साथ साथ कुछ आसान से व्यायाम भी करें।

Leave a comment