googlenews
Secret Gossip - सोनम कपूर ने बताया यूं ही नहीं दिखती हर एक्ट्रेस खूबसूरत,
Secret Gossip

Secret Gossip – – यूं तो हर लड़की खूबसूरत होती है लेकिन हर किसी का सपना होता है वो हीरोइन की तरह दिखें एकदम परफेक्ट जिसमें किसी भी तरह की कोई कमी न हो। और इसी भ्रम से पर्दा उठाने के लिए खुद बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनम कपूर ने अपने एक आर्टिकल के जरिय सितारों की बाहरी खूबसूरती का सच बताया है। जिसमें उन्होंने ये भी बताया है कि लोगों के सामने आने से पहले उन्हें क्या-क्या करना पड़ता है। सुंदर दिखने के पीछे सिर्फ मेकअप ही नहीं और भी कई चीजें होती हैं, जितना उन्हें ध्यान रखना पड़ता है। सोनम ने कहा कि हर लड़की शीशे के सामने खड़ी होकर खुद को देखती हुई यही सोचती है कि वो सेलिब्रिटी की तरह क्यों नहीं दिखती। तो उन लड़कियों को मैं बता दूं कि कोई भी सेलिब्रिटी उठने के बाद ऐसा नहीं दिखता, जैसा आप सोचती हैं। कोई भी एक्ट्रेस नहीं। साथ ही उन्होंने मेकअप के दौरान ली गई सेल्फी भी पोस्ट की है –

 

Secret Gossip - सोनम कपूर ने बताया यूं ही नहीं दिखती हर एक्ट्रेस खूबसूरत
Secret Gossip
 
सोनम का संदेश
 
टीनएज लड़कियो, अगर सुबह जगकर अपने बेडरूम के शीशे में खुद को जब देखती हो और ये सोचती हो कि आख़िर तुम उन तमाम सेलिब्रिटीज़ की तरह क्यों नहीं दिखती, तो ये जान लो कि कोई भी लड़की बिस्तर छोड़ते ही वैसी नहीं दिखती। मैं तो नहीं दिखती, न ही कोई भी और हिरोइनें जिन्हें तुम फ़िल्मों में देखती हो। (बियॉन्से भी नहीं, मैं कसम खाकर कह रही हूँ।)
 
अब असली बात जान लो: हर पब्लिक आयोजन में जाने से पहले, मैं अपने मेकअप की कुर्सी में बैठकर 90 मिनट का समय देती हूँ। तीन से छः लोग मेरे बाल और मेकअप पर काम करते हैं, जबकि एक आदमी मेरे नाख़ून तराशता रहता है। हर सप्ताह मेरी भवें सँवारी जाती हैं, उनकी थ्रेडिंग और ट्वीज़िंग की जाती है। मेरे शरीर के कई हिस्सों पर ‘कन्सीलर’ लगा होता है जिसके बारे में मैं कभी सोच नहीं सकती थी कि इन्हें छुपाने की ज़रूरत होती होगी! 
 
मैं हर रोज सुबह 6 बजे जग जाती हूँ, और 7:30 बजे तक जिम में होती हूँ। लगभग 90 मिनट का समय हर सुबह, और कई शाम सोने से पहले भी, व्यायाम के लिए होता है। मैं क्या खाऊँ, क्या नहीं खाऊँ, ये बताने के लिए किसी व्यक्ति को नौकरी पर रखा जाता है। मेरे फ़ेसपैक में मेरे भोजन से ज्यादा चीज़ें होती हैं। मेरे कपड़ों को चुनने के लिए लोगों की एक पूरी टीम है। 
 
इतने के बाद भी जब मैं ‘फ़्लॉलेस’ नहीं दिखती तो फोटोशॉप पर खूब काम किया जाता है। 
 
मैंने पहले भी कहा है, और फिर से कहूँगी कि किसी मॉडल/सेलिब्रिटी को वैसा दिखाने के लिए कई लोगों की एक पूरी फ़ौज, बहुत ज्यादा पैसा, और काफ़ी समय लगता है। ये न तो वास्तविक है, न ही कोई ऐसी चीज है जिसको पाने की कोशिश करनी चाहिए। 
 
खुद में विश्वास करो। ऐसा बनने की सोचो जहाँ तुम खूबसूरत, उन्मुक्त और खुश रहो, जहाँ तुम्हें एक खास तरीक़े का बनने की कोई ज़रूरत न हो। 
 
और हाँ, अगली बार से जब भी किसी तेरह साल की बच्ची को किसी मैगजीन कवर पर चमकती बॉलीवुड सेलिब्रिटी की तस्वीर को ललचायी निगाहों से देखती देखो तो उसी वक्त उसे ये बता कर उसका भ्रम तोड़ दो। 
 
उसको बता दो कि वो कितनी ख़ूबसूरत है। उसकी सुंदर मुस्कुराहट की बातें करो, उसकी हँसी, उसकी बुद्धि या उसके आत्मविश्वास की बात करो। 
 
उसके भीतर ये विचार पनपने मत दो कि उसमें कोई कमी है, या उसमें कुछ ऐसा नहीं है जो पोस्टर, बिलबोर्ड आदि पर लगी तस्वीर में दिखती सेलिब्रिटी में है। उसको अपने लिए ऐसे मानक बनाने से रोको जो उसके लिए ही नहीं, उन तारिकाओं के लिए भी बहुत ऊँचे हैं।
 
(आर्टिकल का अुनवाद – अजीत भारती)