समृद्धि और खुशहाली का पर्व है छठ पूज

Festival:

छठ पूजा चार दिनों का त्योहार है, जिसमें व्रती लोग निर्जला व्रत रखते हैं। इन दिनों सूर्य देव और छठी मैया की उपासना करके परिवार में खुशहाली लाने की प्रार्थना की जाती है।

षष्ठी के दिन छठ पर्व का प्रसाद बनाया जाता है, जिसमें आटे, घी और गुड़ से बने ‘ठेकुआ’ का विशेष महत्त्व है। गांव घरों में और बहुत हद तक शहरों में भी छठ का प्रसाद मिट्टी के चूल्हे और आम की सूखी लकड़ियों पर बनाया जाता |

छठ पूजा के दिन भक्तों को सुबह जल्दी पवित्र स्नान करना चाहिए। नये और साफ कपड़े पहनने के बाद, भगवान सूर्य को प्रसाद चढ़ाया जाता है।

छठ पूजा का पहला दिन नहाय खाय से शुरू होता है, जिसमें भक्त पानी में पवित्र डुबकी लगाकर उपवास करते हैं। वे दिन में केवल 1 बार भोजन कर सकते हैं। इस दिन कद्दू-भात और चना बनता है।

अर्चना के समय शुद्ध घी के दीपकों को प्रज्जवलित कर जल में प्रवाहित किया जाता है।