Posted inहोम

आप ही से हैं जहां की खुशिया

मां-बाप भले ही बड़े से बूढ़े हो जाते हैं, लेकिन बच्चे मां-बाप के लिए कभी बड़े नहीं होते। थोड़े से प्यार और आपसी साझेदारी से उम्र के आखिरी पड़ाव तक हम इस रिश्ते की मिठास बनाए रख सकते हैं।