Posted inकथा-कहानी

हीरा

मन में यह बात कचोटती रहती कि पढ़ाई कर अफसर न बन सका। अत: मन ही मन निश्चित किया कि अपने बेटे को पढ़ा-लिखा कर अफसर अवश्य बनाऊंगा…