Posted inऐस्ट्रो

संतान नाशक योग के निवारण

ज्योतिषीय सिद्धांतों के अनुसार पंचम् भाव संतान सुख का प्रतिनिधित्व करता है। कारक ग्रहों में बृहस्पति को संतान का कारक ग्रह माना जाता है। संतान सुख हेतु पंचमेश एवं बृहस्पति का बलवान होना एवं पंचम् भाव पर और कारक पर शुभ ग्रहों का प्रभाव संतान सुख देता है।