हम में से कई लोग हैं, जो अक्सर अपने रिश्ते में चुप्पी साध लेते हैं, हमें सही और गलत का अंदाजा नहीं होता। चुप हो जाने की ये आदत ज्यादातर लोगों में होती है। किसी भी चीज में अपनी प्रतिक्रिया देना जरूरी नहीं समझते। हालांकि कई लोग अपनी इस आदत को स्वीकारने से बचते हैं। लेकिन इस आदत के चलते कभी कभी काफी परेशानियों का सामना तक करना पड़ सकता है। रिश्तो में बहुत कुछ आवश्यक होता है ।परन्तु विश्वास सबसे अधिक महत्वपूर्ण होता है। जहाँ विश्वास नहीं रहा होता है वहाँ कुछ भी सम्भव नहीं होता है। विश्वास के लिए एक दूसरे से कुछ भी छुपाना नहीं चाहिए। सभी मुद्दों पर खुल कर बात चीत करना चाहिए। यही विचार विमर्श ही विश्वास को पैदा करता है। क्योंकि जब आप अपनी प्रतिक्रिया किसी मुद्दे पर देंगे ही नहीं, तो आप किसी निष्कर्ष पर भी नहीं पहुंच पाएंगे। आज का ये खास लेख खास उन लोगों के लिए है जो रिलेशनशिप में हमेशा चुप्पी साधे रहते हैं। वो अपनी इस आदत से कैसे निपटें, चलिए जानते हैं।

चुप्पी है सबसे बुरी आदत– अगर किसी व्यक्ति की आदत चुप रहने की है तो आप जबरदस्ती उसे बोलने के लिए हरगिज मजबूर नहीं कर सकते। आप चाहे कितनी भी कोशिश क्यों ना कर लें। ऐसा करना सही भी नहीं है। लेकिन उन्हें इस बात का अहसास होना जरूरी है कि ये उनकी सबसे बुरी आदत है। इस आदत के साथ रिश्ते भी बदल जाते हैं। क्योंकि रिश्ते में सिर्फ एक ही इंसान रह जाता है। क्योंकि चुप्पी साधने की आदत के साथ हर चीज में बहुत देर हो जाती है।

चुप्पी ना बन जाए खतरनाक– एक रिश्ते में चुप्पी सबसे ज्यादा खतरनाक है। शोध के मुताबिक एक रिलेशनशिप क्वालिटी तभी और संवर सकती है जब उस रिश्ते में आपका पार्टनर किसी मुद्दे में अपनी जवाबदेही बराबर से दे। लेकिन जब उनकी जवाबदेही बंद हो जाए तो समर्थन और महत्व भी खत्म होने लगता है। और रिश्ते में तनाव पनपने लगता है। 

लाइफ को बनाएं इंट्रेस्टिंग– आपको जब लगने लगे कि आपके जीवन में कुछ खास नहीं हो रहा है और तनाव लगातार बढ़ रहा है तो आपको अपनी लाइफ इंट्रेस्टिंग बनाने की खास जरूरत है। आप अपनी पुरानी जिंदगी को एक बार फिर से जीने की सोच सकते हैं। आप घूमने जाएं, पार्टी अटैंड करें, होटल में स्टे करें, वीकेंड मनाने जाएं। ताकि आप कुछ समय के लिए अपने रिश्ते को समय दे सकें। ताकि आप खुलकर जी सकें।

अपनी भावनाओं को समझें-जब भी आपका साथी तनाव को महसूस करता है और वो बात करना बंद कर देता है। तो आप उनको अकेले छोड़ने की बजाय उनसे बात करें। उनकी भावनाओं को समझने की कोशिश करें। शोध की मानें तो हमेशा गुस्से के पीछे कोई ना कोई वजह होती है। इस वजह को अगर आप समझ गये तो, आप अपने रिश्ते को भी संवार लेंगे। आप उनसे लड़ाई करने की जगह एक सम्मानजनक संवाद करें। ताकि वो भी खुशकर होकर अपना झुकाव आपकी ओर कर सकें।

एक दूसरे की पसंद का करें सम्मान– तनाव अच्छे से अच्छा रिश्ता बिगाड़ देता है। आप तनाव से ज्यादा एक दूसरे पर ध्यान देंगे तो बेहतर होगा। आप अपने पार्टनर की प्राथमिकताओं के बारे में ध्यान दें। आप एक दूसरे की पसंद को महत्व दें। आप कोशिश करें कि एक दूसरे की आलोचना ना करें।आप कुछ बातों पर समझौता करें। ताकि रिश्ते बिगड़े नहीं। यकीन मानिये ये कोशिश आपकी सबसे अच्छी कोशिश होगी।

माहौल बनाएं खुशहाल- अगर आपको लग रहा है कि आपका रिश्ता जटिल हो रहा है, और आप अपने रिश्ते को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं, तो आप ऐसे में अपने पार्टनर से बात जरुर करें। क्य्तोंकी जब टक आप अपने विचारों को उनसे व्यक्त नहीं करेंगे तब टक रिश्ते में सुधार नहीं हो सकता। आप कोशिश करें कि माहौल अच्छा बना रहे। आप एक दूसरे का सम्मान ना करें। आप परिस्थियों को सरल बनाएं। आप उनसे इमानदारी से बात करें। ताकि वो चुप रहने की आदत को छोड़ सकें।

जब आप किसी रिश्ते में होते हैं, तो कई बार जाने अनजाने में अपने पार्टनर को बदलने की कोशिश करते हैं। ये कोशिश कभी कभी नकारात्मक असर भी डाल सकती है। ऐसे में अगर आपके साथ भी ये स्थिति होती है कि आपका पार्टनर ऐन मौकों पर चुप्पी साध लेता है तो आपको कोशिश करनी चाहिए कि वो इस आदत से कैसे बाहर आएं। तो आपकी मदद हमारा ये लेख जरुर करेगा।

यह भी पढ़ें-अपने रिश्तों में लाएं  स्पार्कशादीशुदा लाइफ से गायब हो चुका है सेक्स तो ये हो सकते हैं कारण

रिलेशनशिप सम्बन्धी यह आलेख आपको कैसा लगा ?अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही  रिलेशनशिपसे जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-editor@grehlakshmi.com