एक बैचलर और शादीशुदा जिंदगी में जमीन आसमान का फर्क होता है। शादी से जिंदगी पूरी तरह से बदल जाती है। लेकिन जिंदगी बदलने का मतलब दुःख ही नहीं होता। कई लोग अपनी शादी से खुश हैं। वहीं शादी के बाद होने वाले कुछ बदलाव ऐसे भी होते हैं, जिनके कई कारण हैं। जो आपको हर पल एक नई चुनौती देते हैं। शादी की कसमों और वादों को स्वीकारने और निभाने में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। अगर आप भी शादी करने के बारे में सोच रहे हैं तो अब आपको अपने साथी जीवनसाथी के साथ पहले से तैयार रहना होगा। आपको समझना होगा कि जिस वजह से शादी के बाद जीवन में बदलाव होगा उन कारणों से कैसे निपटा जाए।

वैल्यू है जरूरी– शादी के बाद आप अपने लाइफपार्टनर के साथ अपनी जिंदगी को साझा करते हैं। शादी के बाद की लाइफ के बारे में आपको अपने पार्टनर से खुलकर बात करनी चाहिए। आपको एक दूसरे से इस बात को साझा करना चाहिए कि आप किस चीज की परवाह सबसे ज्यादा करते हैं। उस चीज की वैल्यू आपके लिए कितनी महत्वपूर्ण है। क्योंकि शादी के बाद कुछ चीजे ऐसी होती हैं, जो कभी भी नहीं बदलनी चाहिए।

अलग ओपिनियन– एक शादी में दो लोग अपनी जिंदगी बिताते हैं। ऐसे में दोनों के बीच मतभेद भी ज्यादा होते हैं । अगर आप अपने सिद्धांतों से बिलकुल भी समझौता नहीं करना चाहते या  शांति बनाए रखने के लिए उनके प्रति समर्पण नहीं करना चाहते तो यकीन मानिये ये एक ऐसी मिसाल कायम होगी, जिसे समय के साथ तोड़ना काफी मुश्किल होगा। 

पैसे रखते हैं ज्यादा मायने– शादीशुदा जिंदगी में आय और व्यय को साझा करना विवाद का बड़ा कारण बन सकता है। अगर आप अपने पार्टनर से खर्चों के बारे में खुली बातचीत करनी चाहिए। आप समझदारी दिखाएं। खर्चों को लेकर आप दोनों में से कौन समझदारी दिखा सकता है, उस पर विश्वास रखें। आपकी आधी मुश्किल ऐसी ही आसान हो जाएगी।

फैमिली टाइम-आपको एक अच्छा ससुराल मिले, ये किसी विरासत से कम नहीं है। शादी के बाद आपको परिवार के हिसाब से भी अपना समय बिताना पड़ता है। आप हफ्ते की छुट्टी का भी प्लान कर सकते हैं। और ये काम आप दोनों साथ करेंगे तो बेहतर होगा। शादी के बाद जिंदगी का ये सबसे बड़ा बदलाव होता है।

शादी के बाद नहीं होता खुद के लिए टाइम– शादी के बाद खुद के लिए अकेला समय निकलना मुश्किल है। वो कहते हैं न ‘मी टाइम’ शादी के बाद ‘वी टाइम’ में बदला जाता है। शादी के बाद की लाइफ खीस के लिए निजी नहीं रहती। आप समय तो बिता सकते हैं, लेकिन इसमें साझेदारी भी आपको फ्री में मिलेगी। जो कभी कभी तनावपूर्ण हो सकता है।

जिम्मेदारी का भार- शादी के बाद जिम्मेदारी दोगुनी हो जाती है। क्योंकि लाइफ पूरी तरह से बदल जाती है। क्योंकि आपके साथ आपकी जिंदगी का साझेदार भी जुड़ जाता है। आपको एक दूसरे की भावनाओं के साथ संवेदनाओं पर विचार करने की जरूरत है। आप समान रूप से योगदान कीजिये। और वही कीजिये जो आपके रिश्ते के लिए मायने रखता है।

ये बदलाव भी खूबसूरत- अगर आप अपने जीवनसाथी से खुले हैं और इमानदार हैं, तो अपने रिश्ते के धागे को कुछ यूँ पिरोएं, जिससे वो और भी खूबसूरत उभरकर सामने आते हैं। क्योंकि शादी वो गाड़ी है जिसमें दोनों की बराबर से की भागीदारी होनी चाहिए। ताकि दूसरों के आगे आप एक मिसाल पेश कर सकें।

शादी के बाद जीवन बदल जाता है। अगर आपने शादी के बाद के इन बदलावों को स्वीकार कर लिया तो आप धीरे धीरे इसके रंग में पूरी तरह से रंग जाएंगे। जो काफी अच्छी बात है। आप अपने साथी के साथ ऐसा ब्रिज बनाएं, जिसमें लचीलापन भी हो। अगर आपको इसमें समय लगता है, तो खुद को रिश्ते में ढालने का समय दें। और अगर आपकी शादी नहीं हुई है और आप फिर भी बदलावों के बारे में जानना चाहते कि कैसे शादी के बाद लाइफ प्रभावित होती है, तो आपकी इसमें मदद हमारा ये लेख बेहतर तरीके से करेगा।

यह भी पढ़ें-

जब कुछ समझ में ना आए तो क्या करें 

सास बहू के रिश्ते कैसे हो मजबूत 

दोस्ती का असली मतलब क्या  है