यह तो हम सभी जानते हैं कि फोन आज के समय में हर किसी की जरूरत बन गया है। हम एक दिन भी फोन के बिना अपने जीवन की कल्पना नहीं कर सकते। अगर कभी फोन खराब हो जाता है या फिर वह ठीक तरह से काम नहीं करता है, तो हम सभी बहुत अधिक बैचेन हो जाते हैं। इसी से पता चलता है कि फोन हमारे जीवन का कितना महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है। यह यकीनन हमारी कई जरूरतों को बेहद आसानी से पूरा करता है, लेकिन कई बार यह भी देखने में आता है कि लोग अपने बिस्तर पर जाने के बाद भी घंटों फोन से चिपके रहते हैं। हालांकि, यह आदत जहां एक ओर आपके स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव डालती है, वहीं दूसरी ओर इससे आपके रिश्ते को भी खामियाजा उठाना पड़ता है। देर रात तक फोन का इस्तेमाल करने से स्वास्थ्य पर होने वाले प्रभावों पर तो हम अक्सर चर्चा करते हैं, लेकिन इस आदत और आपके रिश्ते का आपस में क्या संबंध है, इस पर कोई बात नहीं करता। तो चलिए आज हम आपको बता रहे हैं कि देर रात तक फोन का इस्तेमाल करने से आपके रिश्ते पर क्या नकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं-

नहीं मिलता क्वालिटी टाइम

यह देर रात तक फोन इस्तेमाल करने का एक सबसे बड़ा माइनस प्वाइंट है। दरअसल, पूरा दिन दोनों ही पार्टनर अपनी-अपनी जिम्मेदारियों को निभाने में बिजी होते हैं। ऐसे में उनके पास केवल रात का ही वक्त होता है, जब वह अपने पार्टनर के साथ एक अच्छा वक्त बिता सकते हैं। अपनी दिन की परेशानियां व उपलब्धियों को एक-दूसरे से बांट सकते हैं। इस तरह यह कहा जा सकता है कि किसी भी कपल की लाइफ में रात का समय उनके रिश्ते के लिए काफी अहम् होता है। इस दौरान वह अपने आपसी इमोशनली बॉन्ड को मजबूत करते हैं। लेकिन अगर आपको देर रात तक फोन देखने की आदत है तो हो सकता है कि आप फोन ही देखते रह जाएं और आपका पार्टनर सो जाए। इस तरह आप दोनों एक घर, एक कमरे यहां तक कि एक बिस्तर पर होते हुए भी एक-दूसरे से काफी दूर हो जाएंगे।

शारीरिक संबंधों के प्रति नीरसता

रात का समय कपल्स के सिर्फ इमोशनल बॉन्ड को मजबूत करने के लिए ही अहम् नहीं है, बल्कि इस दौरान वह दोनों एक-दूसरे से शारीरिक रूप से भी निकट आते हैं। ऐसे में वह एक-दूसरे से बेहद अच्छी तरह कनेक्ट हो पाते हैं। लेकिन जिन कपल्स को रात में लंबे समय तक फोन देखने की आदत होती है, वह अपना समय पार्टनर के साथ बिताने के स्थान पर फोन पर बिताना अधिक पसंद करते हैं। जिससे दोनों ही पार्टनर की शारीरिक संबंधों के प्रति भी एक नीरसता पैदा होती है। जहां एक पार्टनर की फोन में दिलचस्पी होती है तो दूसरा पार्टनर अपने जीवनसाथी को इस तरह देखकर उदास व निराश हो जाता है। ऐसे में उनकी मैरिड लाइफ से वह स्पार्क खत्म हो जाता है, जो उन दोनों की लाइफ में एक एक्साइटमेंट बनाए रखता था।

लड़ाईयों का बढ़ना

यह भी देर रात तक मोबाइल फोन में लगे रहने का एक नकारात्मक परिणाम है। जब आप देर रात तक फोन में लगे रहते हैं तो इससे कहीं ना कहीं आपके पार्टनर को गुस्सा आता है। इस स्थिति में भले ही साफतौर पर आपसे इस बारे में ना कहें, लेकिन उसके बोलने के तरीके व स्वभाव से उसकी झुंझलाहट साफतौर पर नजर आती है और इससे आपसी लड़ाईयां बढ़ती हैं। वहीं दूसरी ओर, जो पार्टनर देर रात तक फोन में लगा रहता है, अगले दिन उसमें काम करने की उतनी एनर्जी नहीं होती और फिर सही तरह से काम ना करने की स्थिति में भी कपल्स के बीच झगड़े बढ़ने लगते हैं।

रिश्ते में धोखे की संभावना अधिक

अब आप यह सोच रहे होंगे कि देर रात तक फोन देखने और रिलेशनशिप में धोखे का आपस में क्या कनेक्शन है? जी हां, कनेक्शन है। जब एक पार्टनर अपनी जिन्दगी फोन में ही बना लेता है तो इससे दूसरे पार्टनर को काफी दुख होता है, क्योंकि ना तो वह अपने दुख-सुख अपने पार्टनर के साथ साझा कर पाता है और ना ही उसे वह वैवाहिक सुख मिल पाता है, जो वास्तव में मिलना चाहिए। ऐसे में अक्सर लोग अपनी खुशी घर के बाहर ढूंढने लग जाते हैं। जिसके कारण एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर होने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है और फिर रिश्ते में एक बार दिया गया धोखा उसे पूरी तरह से बर्बाद कर देता है।

जिम्मेदारियां निभाने में चूक

देर रात तक फोन देखने से आपकी सेहत पर कई मायनों में असर पड़ता है, जो आपकी पर्सनल लाइफ को बहुत अधिक इफेक्ट करती हैं। मसलन, अगर आप देर रात तक फोन देखती हैं तो यकीनन अगली सुबह आपको उठने में देर होगी, जिससे पति का लंच बनाने से लेकर बच्चों को तैयार करना कठिन होगा। ऐसे में दिन की शुरूआत में ही जब आप लेट होंगी तो आपके सारे काम लेट होते जाएंगे और फिर आप अपने परिवार व रिश्तों की कुछ बेसिक जिम्मेदारियों को भी निभाने में असफल हो जाएंगी। इस तरह देर रात फोन देखना आपके वैवाहिक जीवन पर तो असर डालेगा ही, साथ ही परिवार के अन्य रिश्तों में भी इस कारणवश कड़वाहट घुल सकती है।

यह भी पढ़ें-Emotional Spending होती है नुकसानदायक, जानिए कैसे बचें इससे

रिलेशनशिप संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही रिलेशनशिप से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें – editor@grehlakshmi.com