माता-पिता बनना किसी भी वैवाहिक जोड़े के लिए किसी सपने के पूरे जैसा ही है। जब वह पैरेंट्स बनते हैं तो उनका परिवार पूरा होता है। इतना ही नहीं, नन्हें कदम उनके जीवन में नई खुशियां लेकर आते हैं। लेकिन जहां एक ओर यह कपल और उनके परिवार के लिए खुशी का मौका होता है, वहीं दूसरी ओर यह अपने साथ ढेर सारी जिम्मेदारियां भी लेकर आता है। माता-पिता बनने के बाद कपल्स को अपनी कई चीजों का त्याग करना पड़ता है। इतना ही नहीं, उन्हें कई तरह के एडजस्टमेंट भी करने पड़ते हैं। जो कपल्स ऐसा कर पाने में नाकाम होते हैं, उनके बीच बच्चे होने के बाद समस्याएं बढ़ने लगती हैं। माता-पिता बनने के बाद उनका आपसी रिश्ता भी बदल जाता है। इसलिए तो कहा जाता है कि पैरेंट्स बनना जीवन का एक बहुत बड़ा निर्णय है और इसके लिए दोनों ही पार्टनर्स की रजामंदी का होना आवश्यक है। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको कुछ ऐसी बातों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें आपको पैरेंट्स बनने से पहले विचार कर लेना चाहिए, ताकि आपको बाद में किसी तरह का दुख या कोई समस्या ना हो-

शारीरिक संबंधों में समझौता

जब आप पैरेंट्स बनने के बारे में सोच रहे हैं तो आपको सबसे पहले और मुख्य रूप से इस बात को समझ लेना चाहिए कि महिला के गर्भधारण के बाद आपको अपने वैवाहिक रिश्ते के साथ समझौता करना ही होगा। हालांकि, गर्भावस्था में कुछ समय ऐसा भी होता है, जब शारीरिक संबंध बनाना सुरक्षित माना जाता है, लेकिन फिर भी अक्सर लोग यही सलाह देते हैं कि गर्भधारण के बाद शारीरिक संबंध ना ही बनाए जाएं तो अधिक बेहतर होगा। इतना ही नहीं, कुछ महिलाओं की प्रेग्नेंसी में कॉम्पलीकेशन्स भी होते हैं और इस स्थिति में आप दोनों आपसी संबंध बनाने पर विचार तक नहीं कर सकते।  साथ ही डिलीवरी के बाद भी कुछ वक्त तक पुरूष को महिला से दूरी बनानी होती है। क्या आप दोनों इस बात के लिए मानसिक रूप से तैयार है या नहीं, क्योंकि अक्सर देखने में आता है कि जब महिला गर्भवती होती है तो शारीरिक दूरी के कारण उन दोनों के आपसी संबंध भी बिगड़ने लगते हैं।

फाइनेंशियल कंडीशन

आपकी फाइनेंशियल कंडीशन भी आपकी फैमिली प्लानिंग पर बहुत अधिक असर डालती है। अगर आप बच्चा प्लॉन कर रहे हैं तो यह अवश्य तय कर लें कि आप फाइनेंशियली इतने मजबूत हों कि आने वाले खर्चों को बिना किसी समस्या के उठा सकें। अगर आप दोनों वर्किंग हैं और प्रेग्नेंसी के दौरान अगर महिला अपने काम से ब्रेक लेती है तो क्या पुरूष लोन से लेकर घर के खर्चे यहां तक कि मां व बच्चे की सभी जरूरतों को पूरा करने में सक्षम है। अगर इस सवाल का जवाब हां हो, तभी कदम आगे बढ़ाएं। अन्यथा पहले थोड़ी सेविंग कर लेना अधिक बेहतर ऑप्शन है।

करियर ब्रेक के लिए तैयार

यह सवाल अमूमन महिलाओं को खुद से करना बेहद आवश्यक है। प्रेग्नेंसी के आखिरी दिनों में महिला को काम करने में परेशानी हो जाती है, हालांकि, उस समय वह मैटरनिटी लीव ले सकती है। लेकिन अगर आपको लीव नहीं मिलती है या फिर बच्चे के जन्म के बाद यकीनन उसे आपकी अधिक जरूरत होगी तो हो सकता है कि आपको अपने करियर से कुछ वक्त के लिए ब्रेक लेना पड़े। खासतौर से, अगर आप एकल परिवार में हैं तो यह सवाल और भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है। तो क्या आप मानसिक रूप से इस चीज के लिए तैयार हैं या फिर आपके पास ऐसा भी ऑप्शन है कि आप घर पर रहते हुए अपने बच्चे के साथ-साथ अपने काम को भी वक्त दे पाएं।

बच्चे की जिम्मेदारी

जब सवाल बच्चे की जिम्मेदारी का हो तो सिर्फ फाइनेंशियली तौर पर मजबूत होना ही काफी नहीं है। बल्कि कपल को आपस में यह भी डिस्कस करना जरूरी हो जाता है कि क्या वह दोनों मिलकर इस जिम्मेदारी को निभा सकते हैं। अमूमन नवजात शिशु के सोने-जागने व हर चीज का रूटीन अलग होता है। मसलन, छोटे बच्चे रात में अधिक जागते हैं और क्या आप दोनों बारी-बारी से बच्चे की देखभाल के लिए तैयार हैं? इसके अलावा, बच्चे को नहलाने से लेकर उसके डायपर बदलने तक आप दोनों मिलकर जिम्मेदारी उठाएंगे या नहीं। बच्चे के जन्म के बाद सिर्फ एक पार्टनर पर बच्चे की पूरी जिम्मेदारी डालने से आपसी रिश्तों में तनाव बढ़ता है।

आजादी से समझौता

यह भी एक महत्वपूर्ण पहलू है, जिस पर ध्यान दिया जाना बेहद आवश्यक है। अगर आप बच्चा प्लॉन कर रहे हैं तो आपको इस बात को अच्छी तरह समझ लेना चाहिए कि आपको कुछ हद तक अपनी आजादी के साथ समझौता करना पड़ सकता है। मसलन, पहले आप दोनों बतौर कपल कभी भी और कहीं भी जा सकते थे। लेकिन बच्चे के जन्म के बाद आप दोनों के लिए अकेले बाहर घूमना थोड़ा कठिन हो सकता है। इसके अलावा, अगर आप कहीं जाने का सोच भी रहे हैं तो ऐसी बहुत सी जगहें हैं, जहां पर आप अपने बच्चे के साथ नहीं जा सकते।

उम्र का रखें ध्यान

पैरेंट्स बनने के लिए आपकी उम्र भी बेहद मायने रखती है। मसलन, अगर आपकी उम्र 24-25 साल है और आपके पति भी 30 के आसपास हैं तो आप अभी अपनी मैरिज को एन्जॉय कर सकती हैं, उसके बाद परिवार बढ़ाने के बारे में सोच सकती हैं। लेकिन अगर आपकी उम्र 34-35 साल है तो अब आप कोशिश करें कि आप पहले बच्चा प्लॉन करें, क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ-साथ प्रेग्नेंट होने में आपको कठिनाई हो सकती है। हालांकि, अभी आप इसके लिए तैयार नहीं है तो ऐसे में एग फ्रीजिंग आदि तकनीक का इस्तेमाल करके बाद में बिना किसी समस्या के भी मां बना जा सकता है।

इन सभी बातों पर सोच-विचार करने के बाद ही आप कोई भी फैसला लें। ध्यान रखना कि माता-पिता बनने की खुशी एक बड़ी जिम्मेदारी अपने साथ लेकर आती है और अगर आप इस जिम्मेदारी को उठाने में सक्षम नहीं होते हैं, तो खुशियों को बोझ बनते देर नहीं लगती।

यह भी पढ़ें-देर रात तक फोन का करेंगी इस्तेमाल तो बिखर जाएगा आपका रिश्ता

रिलेशनशिप संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही रिलेशनशिप से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें – editor@grehlakshmi.com