तन और मन को फ्रेश रखने और कामेच्छा को बढ़ाने के लिए अरोमा थेरेपी एक बेहतरीन विकल्प है। अरोमा थेरेपी से न सिर्फ सेक्सुअल इच्छा ही जाग्रति होती है बल्कि तनाव भी कम होता है। इसे एक प्राकृतिक चिकित्सा भी कहते हैं। अरोमा थेरेपी प्रकृति प्रदत्त चीजों के सत्व से की जाती है, जिसका किसी भी तरह का कोई नुकसान अभी तक नहीं नहीं देखने को मिला है। अरोमा थेरेपी से ब्यूटी भी बढ़ती है। तो जानिए अरोमा थेरेपी में यूज किए जाने वाले तेलों के फायदे के बारे में-

कामोत्तेजना को बढ़ाने के लिए लाभकारी ये तेल

कामोत्तेजना को बढ़ाने के लिए कई सुगंधित तेलों में दालचीनी, बरगमोट, देवदार, चॉकलेट, वेनिला, लैवेंडर, गुलाब और पचौली के मीठे स्वाद युक्त ये तेल शामिल हैं।

देवदार लकड़ी

देवदार वृक्ष का नाम हर किसी ने सुना होगा, देवदार को स्टील की लकड़ी से भी जाना जाता है, क्योंकि इस तेल की महक लकड़ी की तरह होती है| यह तेल इम्यून पॉवर को भी बढ़ाता है और सांस लेने की दिक्कत हो रही है तो उसे भी दूर करता है| यौन जीवन से डरने वाले व्यक्ति को इस तेल का इस्तेमाल करना बेहद लाभकारी होता है। उसे बेहतर सेक्स लाइफ प्रदान कर सकता है| यही नहीं उसके अंदर सेक्स करने की भावनाओं को भी उत्तेजित करता है|

वैनिला

वैनिला का नाम लेते ही उसका फ्लेवर याद आ जाता है। वैनिला एक तरह का खुशबूदार अर्क होता है, जिसकी महक मिलते ही व्यक्ति की कामभावना अपने आप ही उत्तेजित हो जाती है| अगर आप अपने पार्टनर से बेहतर सेक्स पाना चाहते हैं तो पार्टनर को बिना बताए आप वेनिला के तेल की मोमबत्ती जलाएं| खुशबू पाते ही पार्टनर अपने आप ही उत्तेजित हो जाएगा और आप बेहतर सेक्स पा सकते हैं|

चमेली

चमेली का तेल प्राचीन काल ेस ही उत्तेजना का प्रतीक माना जाता है। कहते हैं कि इसका इस्तेमाल देवता भी किया करते थे। चमेली में सेक्स की भावना को तीव्र करने का गुण होता है। इसके इस्तेमाल से व्यक्ति में एक प्रकार की ऊर्जा आ जाती है जो उसके आत्मविश्वास को जाती है।

बेरगामोट

यह एक द्रव्य होता है, जिसको कई सारे फूलों औनर नीबू से मिलाकर बनाया जाता है। यह तेलों का मिश्रण होता है। इसकी महक मन को लुभाने वाली होती है, जो बिना देर किए सेक्स की भावना को जगाती है| इस तेल का इस्तेमाल करने से यौन जीवन बेहतर बन सकती है|

लैवेंडर और कद्दू

अरोमा थेरेपी के अंर्तगत लौंग और कद्दू का भी इस्तेमाल किया जाता है। इसके प्रयोग से लिंग में रक्त का प्रवाह 50 प्रतिशत तक ज्यादा हो जाता है।

पेपरमिंट

अरोमा थेरेपी में पिपरमिंट तेल का इस्तेमाल किया जाता है, जननांगों में इस तेल की मालिश करने पर बेहद फायदा पहुंचता है| इसकी महक बहुत ही भीनी होती है। पिपरमेंट आयल में कई ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो जननांगों पर असर डालते हैं| यह खासकर महिलाओं के लिए अत्यंत लाभदायक होता है जो उनके योन जीवन को स्वस्थ करता है| इस तेल का मसाज करना लाभकारी होता है।

अरोमा थेरेपी में यूज होने वाले प्राकृतिक तेल से बॉडी में एंटी बैक्टीरिया को जनरेट करता है और जिससे त्वचा ग्लो करती नजर आती है। इस थेरेपी के प्रयोग से त्वचा पर बने दाग, उम्र के साथ आती झुर्रियां भी कम होती हैं। अरोमा थेरेपी के बाद त्वचा में एक खास तरह की कोमलता आ जाती है। ऑयली स्किन और मुहांसों की समस्या को भी दूर करने में काफी असरदार होता है। ये सेल्स की मात्रा बढ़ाने को बढ़ाता है साथ ही उसे साफ भी रखता है।

यह भी पढ़ें-

धूप में नहाएं और स्वास्थ्य लाभ पाएं 

वजन घटाने के लिए आसान और सरल 20 उपाय 

कैसे बनें वुमन ऑफ सब्सटेंस यानी प्रभावशाली व्यक्तित्व