अक्सर सेक्स प्रक्रिया के सम्पूर्ण होने के बाद, कुछ कपल्स चिंताग्रस्त हो जाते हैं, विशेषकर शादी के शुरुआती दिनों में। इसका कारण और उनके समाधान क्या हैं? आइए जानते हैं इस संदर्भ में कुछ बातें-

गर्भावस्था का डर

अक्सर देखा गया है कि मेल और फीमेल जब संभोग की चरम सीमा पर पहुंचते हैं तो बावजूद इसके कि महिला पार्ट्नर ने कंट्रासेप्टिव पिल समयानुसार ली है और पुरुष पार्ट्नर ने कंडोम का इस्तेमाल किया है तो भी उनके मन में गर्भावस्था को लेकर डर बना रहता है और वो सेक्स प्रक्रिया का भरपूर आनंद न स्वयं ले पाते हैं न ही पार्ट्नर को दे पाते हैं, बल्कि इंटरकोर्स समाप्त हो जाने के बाद भी तनाव ग्रस्त रहते हैं।

समाधान : गर्भ निरोधक गोली के रैपर के ऊपर सप्ताह के दिन लिखे होते हैं। यदि आप दिन को ध्यान में रखकर गोली की शुरुआत करें तो फिर डरने की ज़रूरत क्या है? यदि गोली लेना भूल भी गई हैं तो सुबह उठकर गोली ले सकती हैं।

जब तक पुरुष वीर्य महिला की योनि मार्ग से होता हुआ गर्भाशय तक नहीं पहुंचता तब तक गर्भ ठहर ही नहीं सकता। यदि आपका पार्ट्नर कंडोम का इस्तेमाल कर रहा है तो फिर डर कैसा (बशर्ते कंडोम फटा या पुरुष के शिशिन से खिसका न हो।

सेक्स के बाद पार्ट्नर से व्यवहार

महिलाएं सेक्सुअल इंटिमेसी के बाद, ‘तुम कमर्फ्टेबल थे या नहीं?’ ये बात कई बार पूछती हैं और अगर पार्टनर कुछ कहता है तो, ‘तुम तो बड़े बेशर्म हो’ जैसी बातें कहकर अपने पार्टनर का मूड ऑफ कर देती हैं।

समाधान : याद रखें जिस तरह सेक्स से पहले फोरप्ले जरूरी है, उसी तरह सेक्स के बाद आफ्टर प्ले भी जरूरी होता है। ये नहीं कि प्रक्रिया समाप्त हुई और मुंह फेर कर सो गयीं, या आप लगीं बेतुके सवाल पूछने। यदि आप अपनी सेक्स लाइफ को आनंददायक बनाना चाहती हैं तो अपने पार्ट्नर के साथ ऐसा व्यवहार कदापि न करें। कुछ देर तक पार्ट्नर के साथ इसी विषय पर लम्बी बात कर सकती हैं। यकीन मानिए आपका ऐसा व्यवहार चर्मोत्कर्ष से ज़्यादा आनंददायी होगा।

ऑर्गज़्म के बारे में पूछना

ये गलती पुरुष अपनी पार्टनर से पूछ कर करते हैं। बार-बार ये सवाल महिलाओं को परेशान करता है।

समाधान : जरूरी नहीं हर महिला को ऑर्गज़्म हो। हर महिला की बॉडी और संरचना अलग-अलग होती है, इसलिए सेक्स प्रक्रिया के बाद अपनी फीमेल पार्टनर से ऑर्गज़्म के बारे में पूछना सही नहीं है।

कोई बीमारी तो नहीं हो जाएगी

गुप्तांगों में खुजली यूटीआई या अन्य किसी बीमारी होने का डर सेक्स प्रक्रिया के समाप्त हो जाने के बाद, अक्सर महिलाओं को चिंता में डाल देता है।

समाधान : यदि आपको भी ऐसा लगता है तो प्रक्रिया समाप्त होने के बाद तुरंत योनि और उसके आसपास के हिस्से को भली प्रकार से धो लें। ऐसा करके आप उन सभी बैक्टीरिया और कीटाणुओं से मुक्त हो जाएंगी और संक्रमण का डर जाता रहेगा।

अंडरवियर पहनें या नहीं

कई कपल्स इंटरकोर्स के समय अंडरवियर निकाल देते हैं, लेकिन बाद में उसी अंडरवियर को पहन लेते हैं।

समाधान : ऐसा कदापि न करें, क्योंकि अक्सर कपल्स फोरप्ले के दौरान अंडरवियर पहने रहते हैं और उस वक्त हॉर्मोन्स निकल जाते हैं। फिर उसी अंडरवियर को पहनना आपके लिए सही नहीं होता।

एक-दूसरे की भावनाओं की कद्र करें

सेक्स के बाद आप तुरंत अपने पार्टनर को छोड़ कर मोबाइल या लैपटॉप पर बैठ जाते हैं और आपकी पत्नी कामवाली से काम करवाने या घर के बचे खुचे काम निबटाने चल पड़ती है।

समाधान : इंटरकोर्स कोई मशीनी प्रक्रिया नहीं है। यह एक भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक क्रिया है। आपका ऐसा व्यवहार आपके पार्ट्नर के भावों को आहत कर सकता है। यदि आप अपने पार्टनर को दिलोजान से चाहते हैं तो उसकी भावनाओं की कदर करें और ऐसा व्यवहार करने से बचें।

यह भी पढ़ें –बेडरूम को ऐसे सजाएं, रोमांस और प्यार बढ़ जाए