यौनशक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय

सेक्स हर वयस्क की जिन्दगी का एक अहम हिस्सा है। अगर आपकी सेक्स लाइफ बेहतर है, तो आप खुद को शारीरिक व मानसिक रूप से तरोताजा रख सकते हैं। यह आपके लिए एक स्ट्रेस बस्टर की तरह काम करता है। लेकिन ऐसे बहुत से लोग होते हैं, जिनकी सेक्स लाइफ उतनी अच्छी नहीं होती। दरअसल, वह बिस्तर पर अच्छा परफॉर्म नहीं कर पाते हैं और उन्हें अन्यथा ही कई तरह के तनाव हो जाते हैं।

ऐसे लोगों के मन में अक्सर यह सवाल घूमता रहता है कि वह अपना सेक्स टाइम बढ़ाने के लिए क्या करें या फिर बिस्तर पर टाइमिंग बढ़ाने के लिए कौन सी दवाओं का सेवन करना सही रहेगा? हालांकि, किसी भी तरह की दवा को बिना सोचे-समझे लेना सेहत के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। ऐसे में बेहतर होगा कि आप अपनी किचन का ही रूख करें, क्योंकि नेचुरल होम रेमिडीज से किसी भी तरह का नुकसान होने का खतरा नहीं रहता है। तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसे ही यौनशक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप बेहद आसानी से बिस्तर पर अपनी टाइमिंग को बढ़ा सकते हैं और अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर तरीके से एन्जॉय कर सकते हैं-

सेक्स टाइम बढ़ाने के लिए अश्वगंधा

जब बिस्तर पर देर तर टिके रहने की बात हो तो सबसे पहली आयुर्वेदिक दवा का नाम आता है अश्वगंधा। यह उन पुरूषों के लिए बेहद अच्छी मानी गई है जो स्तंभन दोष जैसी समस्याओं का सामना करते हैं। वहीं, अगर महिलाओं को सेक्स में दिलचस्पी नहीं होती, तो अश्वगंधा के सेवन से उनकी सेक्स करने की इच्छा भी काफी बढ़ सकती है।

बायोमेड रिसर्च इंटरनेशनल के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, अश्वगंधा का लगातार 8 सप्ताह तक सेवन करने से आपकी सेक्स करने की इच्छा में काफी सुधार हो सकता है। इतना ही नहीं, इस अध्ययन में यह भी पाया गया कि इसका सेवन करने से महिलाओं के सेक्शुअल सेटिस्फैक्शन में भी सुधार हुआ। आप हर दिन एक से दो ग्राम अश्वगंधा के पाउडर को गर्म दूध में डालकर रात को सोने से पहले पी सकते हैं।

सेक्स टाइम बढ़ाने के लिए शिलाजीत

सेक्स पावर या टाइमिंग बढ़ाने के लिए शिलाजीत का सेवन करना बेहद लाभकारी माना गया है। एंड्रोलोगिया पत्रिका ने एक अध्ययन किया था, जिसमें दावा किया गया है कि शिलाजीत पुरुष शरीर में टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाने में भी मदद करता है। इसका अर्थ है कि अगर एक पुरूष शिलाजीत का सेवन करता है, तो ना केवल उसकी सेक्स टाइमिंग बढ़ती है, बल्कि इससे शुक्राणुओं की संख्या और गुणवत्ता में भी सुधार होता है। ऐसे में जो कपल्स ना केवल अपनी सेक्स लाइफ से परेशान हैं, बल्कि चाहकर भी गर्भधारण नहीं कर पा रहे हैं, उनके लिए यह जड़ी-बूटी बेहद ही कारगर साबित होने वाली है।

सेक्स टाइम बढ़ाने के लिए शतावरी

अगर आप उन कपल्स में से हैं, जिनकी सेक्स करने की इच्छा ही नहीं होती है तो ऐसे में अपनी कामेच्छा को जागृत करने के लिए और अपनी सेक्स टाइमिंग को बढ़ाने के लिए आप शतावरी का सेवन कर सकते हैं यह न केवल आपकी सेक्स ड्राइव को बेहतर बनाने के लिए जाना जाता है बल्कि आपके ऊर्जा के स्तर को भी बढ़ाता है। इतना ही नहीं, जब महिला प्रजनन क्षमता की बात आती है तो यह भी इससे कई बेहतर परिणाम मिलते हैं।

एशियन पैसिफिक जर्नल ऑफ ट्रॉपिकल डिजीज में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, शतावरी डिंब अर्थात् ओवम को पोषण देने के लिए जानी जाती है ताकि बच्चे को जन्म देने में परेशानी न हो। इतना ही नहीं, यह अन्य सेक्स संबंधी प्रॉब्लम्स जैसे यौन अंगों में सूजन, नपुंसकता, शीघ्रपतन आदि पर भी कार्य कर सकता है।

सेक्स टाइम बढ़ाने के लिए गोक्षुरा

गोक्षुरा के बारे में शायद बेहद कम लोग जानते होंगे। लेकिन जब स्टेमिना बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा के बारे में बात की जाए तो उसमें गोक्षुरा यकीनन एक बेहतरीन औषधि साबित हो सकती है। यह पुरूषों व महिलाओं दोनों के लिए कारगर तरीके से काम करती है। यह देखा गया है कि तनाव, अत्यधिक शराब और सिगरेट के सेवन से पुरुषों में आमतौर पर शुक्राणुओं की संख्या कम होने की समस्या विकसित हो जाती है। वहीं, कुछ मामलों में पुरूष स्तंभन दोष के कारण बिस्तर पर लंबे समय तक टिक नहीं पाते। ऐसे में गोक्षुरा का सेवन करने से उन्हें बहुत अधिक लाभ होता है।

एक अंतरराष्ट्रीय त्रैमासिक जर्नल ऑफ रिसर्च में आयुर्वेद पर हुए एक अध्ययन के अनुसार, बांझपन वैश्विक अनुपात की समस्या है, जो दुनिया भर में औसतन 8 से 12 प्रतिशित जोड़ों को प्रभावित करती है। लेकिन आयुर्वेद के पास गोक्षुरा के रूप में इसका समाधान है। उपरोक्त अध्ययन में पाया गया है कि 60 दिनों या उससे अधिक समय तक गोक्षुरा का सेवन करने से बांझपन से लेकर अन्य सेक्स समस्याओं से निपटने में मदद मिल सकती है। इसने सेक्स ड्राइव में भी बड़ा सुधार दिखाया है।

बरतें यह सावधानी

यूं तो आयुर्वेदिक दवाओं का कोई नुकसान नहीं होता है, लेकिन फिर भी इन्हें लेते समय कुछ बातों का विशेष रूप से ध्यान दिया जाना बेहद आवश्यक है। जैसे-

  • अगर आपको पहले से कोई स्वास्थ्य समस्या है, तो कभी भी किसी दवा का सेवन स्वयं ना करें। बेहतर होगा कि आप पहले किसी आयुर्वेद के जानकार से मिलें और उसके बाद ही किसी भी घरेलू उपाय को अपनाएं।
  • इन आयुर्वेदिक दवाओं का सेवन करते समय मात्रा का भी ध्यान दिया जाना बेहद आवश्यक है। अगर आप अपनी इच्छानुसार किसी भी मात्रा में इन दवाओं के सेवन से आपको लाभ के स्थान पर नुकसान हो सकता है।

Leave a comment