आज भी जब हमारे यहां किसी लड़की के लिए एनआरआई लड़के से शादी का प्रस्ताव आता है तो परिवार वाले उसे अपनी शान समझते हैं। मेरी बेटी विदेश जाएगी, इस बात को पहली प्राथमिकता दी जाती है। विगत कुछ वर्षों में एनआरआई शादी में कई ऐसे किस्से सामने आए हैं जिनमें लड़कियों ने धोखा ही खाया है। कुछ मामलों में शादी तो हो जाती है लेकिन लड़की जिंदगी भर विदेश जाने के इंतजार में घर ही बैठी रह जाती है। लड़का आता है, संबंध बनाता है, लड़की के घर वालों से आर्थिक मदद मांगता है और उसे बाद में ले जाने का आश्वासन दे चला जाता है। दूसरी ओर विदेश में वहीं की लड़की से शादी कर जीवन का मजा उठा रहा होता है। कुछ मामलों में लड़की शादी करके विदेश तो चली जाती है और वहां एक नौकरानी की जिंदगी जीती है।

मोटे दहेज के लिए
कुछ दिनों पहले ऐसी ही एक घटना सामने आई जिसमें एक एनआरआई (प्रवासी भारतीय) दो शादियां कर भारत में रह रही पहली पत्नी को दहेज के लिए प्रताडि़त करता था। मामला फिलीपींस में बस चुके मॉडल टाउन निवासी सुखपाल सिंह का है। इनकी पत्नी सुखजीत ने बताया कि शादी के बाद सुखपाल को उसके पिता ने 3.5 लाख दिए थे ताकि वो सुखजीत को फिलीपींस बुला सके, लेकिन वो कोई न कोई बहाना करके टाल देता था। उसे बीमा के एक पत्र से पता चला कि उसने वहां शादी कर ली है और उसके दो बच्चे भी हैं। सुखजीत की तरह न जाने कितनी महिलाएं हैं जो अपने पति का इंतजार करती ही रह जाती हैं। उन्हें पता भी नहीं चलता कि उनका पति वहां दूसरी शादी कर अपना घर बसा चुका है।

 

शादी या व्यापार
सुप्रीम कोर्ट की अधिवक्ता हरव्रिंदर चौधरी का कहना है कि एनआरआई मैरिज आज व्यापार बन चुकी हैं। उनके अनुसार ऐसे केसेज भी सामने आए हैं जिनमें महिलाएं भी इसे व्यापार का माध्यम बना रही हैं। ऐसे भी केसेज देखे हैं जिनमें लड़कियां विदेश जाने के लिए दोगुनी उम्र वाले विदेशी से शादी करती हैं। कई बार तो वे वहां जाकर प्रॉपर्टी की मालकिन बन दूसरी शादी कर लेती हैं। ऐसे भी कई केस हैं जिसमें माता पिता 80 वर्ष के एनआरआई पुरुष से बेटी की शादी करा देते हैं, बदले में लड़का उन्हें दहेज देता है, लेकिन 90 प्रतिशत मामले पुरुषों की धोखाधड़ी के होते हैं।

शारीरिक संबंध के लिए
मनौवैज्ञानिक डॉ. परिनाश पारेख का कहना है कि पैसे के अलावा एनआरआई शादी में धोखे की एक वजह सेक्स भी है। ऐसे पुरुष दो या तीन ही नहीं बल्कि अलग-अलग देशों व शहरों में न जाने कितनी शादियां करते हैं। इन सबके साथ शारीरिक सुख भोगते हैं और उन्हें विदेश ले जाने के बेवकूफ बनाते रहते हैं। अधिकतर गांव की ही लड़कियां इसकी शिकार होती हैं।

सावधानी है जरूरी
जरूरी नहीं है कि सभी एनआरआई शादी के यही परिणाम हों। इनमें कुछ सफल भी होती हैं। शादियों में धोखे से बचने के लिए जरूरी है कि शादी से पहले कुछ बातों का ध्यान रखें। खासतौर पर एनआरआई लड़के से शादी के प्रपोजल को यूं ही स्वीकार न करें। लड़के की क्वालिफिकेशन, एपाइंटमेंट लैटर, सैलरी स्लिप जरूर देखें। लड़का जिस संस्थान में नौकरी करता है, उस संस्थान का परिचय देखें। कंपनी में फोन करके भी लड़के की नौकरी के बारे में पता कर सकते हैं। कंपनी का पहचान पत्र भी देखें।क्योंकि अक्सर धोखा करने वाले अपनी और नौकरी की गलत जानकारी देते हैं।

सोशल साइट्स चेक करें
आजकल सोशल साइट्स भी किसी की खोज व पता लगाने का अच्छा माध्यम हैं। अधिकतर लोग फेसबुक से जुड़े होते हैं। आप एनआरआई लड़के का फेसबुक स्टेटस और उसके फ्रेंड्स के कमेंट जरूर पढ़ें। इससे आपको उसके व्यक्तित्व का कुछ अंदाज तो हो ही जाएगा। 

ये भी पढ़ें 

बच्चों में डालें गुड हैबिट्स

हर दिन बच्चों को दें एक प्यार की…