पति-पत्नी का रिश्ता बहुत ही खास होता है। इसमें कोई बंधा बंधाया नियम नहीं है कि एक-दूसरे को खुश करने के लिए हर दिन कुछ ना कुछ उपहार देना ही है। यह रिश्ता बेहद नाजुक और खूबसूरत धागे में पिरोया हुआ होता है। यह एक ऐसा संबंध होता है, जहां कई रिश्ते मिल जाते हैं। फिर चाहे दोस्तों की तरह लडऩा हो या फिर छोटे बच्चे जैसी जिद, ये सब चीजें इस रिश्ते में नजर आती हैं। क्योंकि पति-पत्नी एक दूसरे के लिए ये सारी भूमिका निभाते हैं। पर इन सब में एक-दूसरे को समय ना देना, काम में व्यस्त रहना आदि कई ऐसी बातें होती हैं, जिससेे रिश्ते में थोड़ी बहुत अनबन होना स्वाभाविक है। क्योंकि जहां इतना प्यार होता है वहां लड़ाई ना हो ऐसा हो नहीं सकता। पर इन सबके बावजूद यह रिश्ता अपनी खूबसूरती को कम नहीं होने देता और मजबूती को कायम रखता है। अगर आप भी चाहती हैं कि आपके रिश्ते को किसी की नजर ना लगे तो जरूरी है कि एक यात्रा की प्लानिंग करें, क्योंकि घूमना-फिरना रिश्ते के बीच की खटास व तनाव को भी दूर करता है। वो कैसे आइए जानें-

मिलता है एक-दूसरे के लिए समय
एक लंबी छुट्टी का यही मतलब होता है। अपने साथी के साथ ढेर सारा समय एक साथ बिताएं, जहां पर सिर्फ आप दोनों ही होंगे और तीसरा कोई नहीं। यह समय ऐसा होता है, जिसमें आप जान पाएंगे कि एक-दूसरे को समय ना देने के कारण आपने क्या खोया और क्या पाया है। इन फुरसत के पलों में आप एक दूसरे के बारे में वो सभी बातें जान सकते हैं, जिसके बारे में आपको पता ही नहीं चला। अपने रिश्ते को परखने के लिए इससे अच्छा और कोई समय नहीं होता है। इसलिए इस समय को यूं ही ना गंवाएं बल्कि एक-दूसरे को पूरा समय दें।

व्यवहार का पता चलता है
ऐसा नहीं कि आपको पार्टनर के व्यवहार के बारे में पता नहीं होता, पर आपके पार्टनर का व्यवहार बाहर कैसा होता है इसका पता चलेगा, क्योंकि सफर के दौरान कुछ गलतियां होना स्वाभाविक है जैसे कि पूरी पैकिंग समय पर ना होना, ट्रेन या फ्लाइट का छूट जाना आदि, यह सभी ऐसे अनुभव हैं, जो आपके रिश्ते की मजबूती को परखने के काम आएंगे। क्योंकि ये वो चीजें होती है, जिसका सामना आपको अपने साथी के साथ करना पड़ता है। ऐसी कठिन परिस्थितियों में आपका साथी आपके साथ कैसा व्यवहार करता है? आप भली-भांति समझ जाएंगी।

बातचीत से होती हैं बातें साफ
जिम्मेदारियों के चलते क्या आप दोनों के बीच बातचीत सिर्फ और सिर्फ काम की रह गई है? अगर हां, तो यात्रा के दौरान ये बात कितनी सच है, मालूम चलेगा क्योंकि यात्रा चाहे कितनी ही आसान क्यों ना हो पर बिना बातचीत के रास्ता कटता नहीं है। एक बात का ध्यान रखें कि बातचीत एक शांत और शीतल नदी की तरह है, जो कलकल करती एक बाग से होकर गुजरती है। अगर आप चाहते हैं कि यह नदी यूं ही बहती रहे तो जरूरी है कि पति-पत्नी दोनों यात्रा के समय घूमने के साथ-साथ बातचीत करें।

मिलते हैं नए अनुभव
यह समय ऐसा होता है, जिसमें हर जोड़े को कुछ नए अनुभव साथ में देखने और बांटने को मिलते हैं, जो आप साथ रहते हुए भी नहीं जान पाते हैं। घूमने के दौरान ऐसा कुछ करें, जो आपकी स्मृतियों में हमेशा के लिए बस जाए। क्योंकि प्यार जाहिर करने का समय इससे बेहतर नहीं हो सकता। यात्रा के बाद आपको खुद महसूस होगा कि अच्छे अनुभव ताउम्र के लिए स्मृतियों में बस गए हैं।

 

सेक्स में मिलती है ताजगी
यह बात वैज्ञानिक रूप से भी साबित की जा चुकी हैं कि अगर आप सेक्सुअल लाइफ को बेहतर बनाना चाहते हैं तो बाहर घूमने जरूर जाएं। हाल में किए गए एक सर्वेक्षण से यह पता चला है कि जो लोग नियमित रूप से घूमने जाते हैं उनके यौन संबंध उन जोड़ों से बेहतर होते हैं, जो एक साथ घूमने नहीं जाते। यह इसलिए संभव होता है क्योंकि यात्रा के समय पति-पत्नी पर कोई दबाव या परेशानियां नहीं होती है जिससे वह सेक्स को पूरी तरह इंजॉय करते हैं।

पार्टनर बनता है दोस्त
यह बात सच है कि लंबी यात्रा रिश्ते की सच्ची परीक्षा होती है और अगर आप अपनी यात्रा सफलतापूर्वक पूरी कर लेते हैं तो अंत में आपको ना केवल अपना पति मिलता है बल्कि एक नया दोस्त भी मिलता है। क्योंकि यात्राएं आपको अपने साथी को पहले से और भी बेहतर तरीके से जानने का मौका देती हैं। यात्रा के दौरान आपको अपना खोया हुआ दोस्त वापस मिल जाता है जिससे आप पहले की तरह बिना किसी की परवाह किए सारी बातें सकते हैं।

बनती है नई-नई प्लानिंग
यात्रा सिर्फ आपके रिश्ते को मजबूत नहीं बनाती बल्कि ऐसे समय में नई-नई प्लानिंग भी बनती हैं, जिस के बारे में आप सोच तो रहे थे, पर समयाभाव के चलते कर नहीं पाते थे। इस समय आप रोजमर्रा की जिंदगी से हटकर एक साथ रहते हैं, जिसमें आपको एक-दूसरे के लिए समय मिल जाता है प्लानिंग करने का। फिर चाहे वो फैमिली प्लानिंग हो या फिर बच्चों के बारे में या फिर घर बनाने आदि की योजना। हर फैसला साथ में होता है, जिससे किसी भी तरह का कंफ्यूजन नहीं होता है।

बढ़ती है समझदारी
यह बात सच है कि पति-पत्नी का रिश्ता तभी ताउम्र चल सकता हैं जब दोनों के बीच बहुत अच्छी अंडरस्टैंडिंग हो। यदि पति-पत्नी के बीच आपसी समझ और प्यार है तो दोनों के बीच कोई दूसरा जगह नहीं ले सकता। पर कई बार परिवार की जिम्मेदारियों के चलते आपसी अंडरस्टैडिंग मिस अंडरस्टैडिंग बन जाती है, जिसका खामियाजा परिवार वालों को नहीं बल्कि आप दोनों को ही भुगतना पढ़ता है। पर यह अंडरस्टैंडिंग तब और परिपक्व हो जाती है जब आप सफर में एक साथ निकलते है, क्योंकि सफर बताता है कि आप दोनों एक-दूसरे से कितना जुड़े है। 

ये भी पढ़ें-

कुछ ऐसे पहुंचें क्लाइमेक्स तक

ये 10 रोमांटिक डेस्टिनेशन बनाएंगे…

ये हैं इंडिया के कम चर्चित लेकिन बेहद खूबसूरत डेस्टिनेशन 

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।