1. टीनेज में 40 फीसदी लड़कियां जोक मानकर सेक्सटिंग यानी मोबाइल पर सेक्स मैसेज भेजती हैं। 34 फीसदी इसे सेक्सी मानती हैं और 12 फीसदी दबाव में आकर सेक्सटिंग करती हैं। 
  2. कुल 17 फीसदी लोग उन्हें मिले सेक्सी मैसेज को आगे फॉरवर्ड करते हैं। इनमें से 55 फीसदी ऐसे हैं जो एक से ज्यादा लोगों से ऐसे मैसेज शेयर करते हैं।
  3. करीब 70 फीसदी टीनेज लड़के और लड़कियां अपने बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड को सेक्सटिंग करते हैं, न्यूड इमेज भेजने वाले 61 फीसदी सेक्सटर्स ने स्वीकार किया कि ऐसा उन्होंने कम से कम एक बार दबाव में किया।
  4. टीनेजर्स में से करीब 40 फीसदी ने सेक्स मैसेज भेजे लेकिन सेक्स मैसेज भेजने का काम ल़ड़कियों से ज्यादा लड़कों ने किया।
  5. न्यू़ड यानी नग्न या अर्धनग्न फोटो भेजना टीन लड़कियों में ज्यादा प्रचलित है। 22 फीसदी टीन लड़कियों ने ऐसे फोटो मोबाइल से भेजे जबकि 18 फीसदी लड़कों ने ऐसा किया।
  6. अपनी नग्न या अर्धनग्न फोटो भेजने वाले 15 फीसदी टीनेजर्स ने ऐसे मैसेज उन लोगों को भेजे, जिनसे वे कभी नहीं मिले थे, लेकिन सिर्फ इंटरनेट के माध्यम से जानते थे।
  7. 18 वर्ष की आयु से कम के किशोरों के लिए सेक्स संबंधित मैसेज करना या रिसीव करना चाइल्ड पोर्नोग्राफी के तहत आता है और इसका परिणाम आपराधिक श्रेणी में आता है।
  8. हाईस्कूल के 14 से 17 वर्षीय 24 फीसदी टीनेजर्स और 33 फीसदी कॉलेज के छात्र (18-23 वर्षीय) किसी न किसी तरह न्यूड सेक्सटिंग से जुड़े हैं।