अब आप सोच रही होंगी कि ये ट्रॉफी वाइफ क्या होता है?  जिस तरह से एक जीत के तौर पर चमचमाती ट्रॉफी को घर लाकर किसी कोने पर सजा दिया जाता है और कभी-कभार लोगों को अपनी शान बघारने के लिए उनका जिक्र होता है, ठीक वैसे ही आजकल कुछ पुरुष ब्यूटीफुल और स्मार्ट पर्सनालिटी की लड़की से सिर्फ इसलिए शादी करते हैं ताकि उसकी खूबसूरती के जरिये समाज, परिवार और दोस्तों के बीच अपना ईगो बूस्ट कर सोशल स्टेटस में इजाफा कर सकें।

इन्हें अपनी पत्नी के व्यक्तित्व, बुद्धि, विचारों और सुखदुख से कोई खास मतलब नहीं होता। ऐसी पत्नियां ही घर में महज ट्रॉफी वाइफ बनकर रह जाती हैं। क्योंकि वह आपकी छवि, ब्यूटी से प्रेम करता है आपसे नहीं।

अगर आपके हसबैंड नीचे बताए गए लक्षणों पर खरे उतरते हैं तो समझ जाइए कि वे आपको ट्रॉफी वाइफ से ज्यादा कुछ नहीं समझते।

 

ब्यूटी की  पब्लिसिटी करे

शादी होते ही गैरजरूरी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर आपकी खूबसूरती के किस्से लोगों को सुनाए, पिक्चर्स अपलोड कर अजनबियों के बीच आपकी ब्यूटी व फिगर का ढोल पीटे, अपने ईगो के लिए दूसरों की कम खूबसूरत बीवी के सामने आपका बखान करे, शादी व तीज-त्योहारों पर आपकी खूबसूरती के कसीदे पढ़े और अन्य गुणों पर पर्दा डाले तो जान लीजिए आप अपने पति के लिये एक खूबसूरत गुड़िया और ट्रॉफी वाइफ से ज्यादा कुछ नहीं हैं।

 

सेक्स में सिर्फ अपनी संतुष्टि देखे

आजकल ज्यादातर शादियों की टूटने की अहम वजह सेक्सुअल सेटिस्फेक्शन की कमी होती है। जब पति या पत्नी आपस में सेक्स को लेकर संतुष्ट नहीं होते तो झगड़ा और अलगाव पैदा होता है। ऐसे में अगर आपके पति भी बिस्तर ओर सेक्स के दौरान सिर्फ अपने सेटिस्फेक्शन के बारे में सोचते हैं और आपको रोमांस या सेक्स प्लेजर का हिस्सेदार नहीं बनाते तो इशारा काफी है समझदार के लिए।

 

डेट औऱ डिनर के नाम पर नुमाइश

पति अचानक से आपको सरप्राइज डेट, डिनर या फिर फैमिली गेट-टूगेदर पर ले जाए. लेकिन वहां जाकर मालूम पड़े कि दोस्तों या ऑफिस कुलीग को भी इनवाइट किया है और फिर पूरे समय आपकी ब्यूटी के किस्से गढ़े तो समझिए वह आपको किसी ट्रॉफी की तरह लोगों के बीच दिखाकर अपनी शान में इजाफा करना चाहते हैं।

 

आप के बारे में खास बातों से अनजान

सिर्फ आपकी खूबसूरती को देखकर शादी की हो और फिर उसके आप के अंदरूनी व्यक्तित्व और कुछ खास क्वालिटीज से अनजान  रहे। उसके लिए आप एक खूबसूरत महिला से ज्यादा और भी कुछ हैं, यह जानने की कोशिश भी न करे। आपको समझने के लिये अपना समय न दे तो जान लीजिए कि यह इस रिश्ते से बाहर निकलने का समय है।

 

सेल्फ सेंटर्ड रहे

आपके साथ कहीं आउटिंग या पारिवारिक फंक्शन्स में सबके बीच आपके अस्तित्व को नकारते हुए सिर्फ अपनी ही बातें करे। आपसे से पूछे गए सवाल या राय का जवाब आपकी बात काटकर खुद देने लगे तो समझ जाइए कि आपके पति देव सिर्फ नारसिस्ट नहीं बल्कि सेल्फ सेंटर्ड पर्सन हैं और आप उनकी ट्रॉफी वाइफ।

 

पर्सनल या सीरियस डिस्कसन न करे

जब आपका मन आने पति से व्यक्तिगत या गंभीर मसलों पर बात करने का हो या रिश्ते में आती उलझनों को सुलझाने का हो लेकिन वह आपकी बातों व तर्क को दरकिनार कर सिर्फ आपके कपड़ों, खूबसूरत चेहरे और सेक्स की बात करें तो समझ जाइये वह आपको ट्रॉफी वाइफ से ज्यादा कुछ नहीं समझते।

 

बातबात पर अपमानित करे

किसी भी रिश्ते में परस्पर सम्मान बहुत जरूरी है लेकिन जब आपका पति आपकी बेइज्जती करने का कोई मौका न गंवाए और पार्टी, घर या बाजार में सरेआम लताड़ने लगे, आपकी किसी कमी को काबिलियत और खूबसूरती से जोड़कर अपने मातापिता या दोस्तों के समक्ष नीचा दिखाए तो वे निश्चित है कि वह आपको ट्रॉफी वाइफ से ज्यादा अहमियत नहीं देता।

दरसअल पुरुष अपनी स्वयं की छवि, ईगो और सोशल स्टेटस को मेंटेन करने के लिए कई बार औरत का इस्तेमाल करते हैं। अपनी सोसायटी में शान बघारने के लिए खूबसूरत लड़कियां चुनते हैं और फिर उन्हें अपने घर में सजावट जा सामान बनाकर उन्हें ट्रॉफी वाइफ की हैसियत से देखते हैं। अगर आप भी किसी ऐसे रिश्ते में हैं तो आज ही उन्हें खुलकर अपनी बात कहें और अपने आत्मसम्मान की रक्षा करें।