ये कहना गलत ना होगा कि सास-बहू का रिश्ता बहुत ही सेंसिटिव रिश्ता होता है क्योंकि इस रिश्ते में कब, कौन सी  बात किसी को बुरी लग जाए ये समझ पाना मुश्किल ही होता है। हालांकि बदलते समय के साथ सास और बहुओं की आपसी समझ काफी हद तक बदली है। आज सास ये समझती हैं कि उनकी बहुएं समय के साथ अपने अंदाज बदलेंगी, तो वहीं बहुएं भी जानती हैं कि सास भी उनकी मां जैसी ही हैं। लेकिन इस रिश्ते की मधुरता को बनाए रखने के लिए जरूरी है कि आप इन छोटी-छोटी गलतियों से बचकर रहें। 

फोन न करना

अक्सर बहुएं सासु मां से फोन पर बात करने में हिचकिचाती हैं, लेकिन अगर सास के साथ अपने रिश्ते की मिठास को बनाए रखना है, तो खुद उन्हें फोन करने की आदत डाले। इस काम के लिए उनके बेटे का इंतज़ार न करें। ऐसा करने से आप दोनों के बीच जो रिश्ता बनेगा, वो आपके पति या उनके बेटे का मोहताज नहीं रहेगा। 

उनकी तबियत के बारे में न पूछना

अपनी बातचीत में सिर्फ घर-परिवार की चर्चा न करें, सासु मां से उनकी तबियत के बारे में पूछें। जरूरत पड़े तो डॉक्टर के यहां उनके साथ जाएं। ऐसा करने से उनका आपके प्रति भावनात्मक जुड़ाव बढ़ेगा और उन्हें ये महसूस होगा कि आपकी नज़रों में उनकी अहमियत है।

उन्हें कॉम्प्लीमेंट न देना

तारीफ ऐसी चीज़ है जो दो अनजान लोगों के बीच भी आत्मीयता ला सकती है, फिर आप दोनों तो एक ही परिवार का हिस्सा हैं। उनके लुक्स, बाल या फिर उनके हाथ के खाने या उनकी बनाई किसी चीज़ की तारीफ जरूर करें। 

उनकी लाइफ के खास दिनों को भूल जाना

जितने उत्साह से आप अपने पति, बच्चों और पेरेंट्स के बर्थडे को स्पेशल बनाती हैं, वैसे ही अपने सास-ससुर और ससुराल के अन्य सदस्यों के खास दिनों को याद रखें। जरूरी नहीं कि उस दिन पार्टी ही करें, लेकिन दूसरे कई ऐसे तरीके हैं जिनसे आप उन्हें ये बता सकती हैं कि उनकी खुशी आपके लिए भी मायने रखती है। 

ये सोचना कि उनको वही चीज़े पसंद आए जो आपको पसंद है

अक्सर खाने-पीने, कपड़ों, रहन सहन के अंदाज जैसी बैतों पर सास और बहू की पसंद अलग हो जाते हैं। ऐसी स्थिति में बहू अपनी पसंद-नापसंद खुलकर सासु मां से शेयर करे। आमतौर, खुले तौर पर ऐसी चीज़ों पर बातचीत करने से सास और बहू के बीच खुलापन आता है और रिश्ते मधुर होते हैं।

उनसे मिले गिफ्ट्स को यूज़ न करना।

अलग- अलग चॉइस की वजह से अक्सर ऐसा देखा गया है कि सास की तरफ से मिला गिफ्ट बहुओं को कम ही पसंद आता है और वो इन गिफ्ट्स को यूज़ नहीं करती। जबकि सासू मां का ध्यान इसी बात पर रहत है कि कब उनकी ड्रेस पहनकर बहू उन्हें दिखाएं। ऐसी स्थिति में बहू गिफ्ट लेकर रखने की बजाए, सास को यदि ये बताए कि ये ड्रेस उसके उपर अच्छी नहीं लगेगी और वो ड्रेस बदल लेगी तो को ज्यादा अच्छा लगना चाहिए। 

 

ये भी पढ़े-

लाइफ में रोमांस बढ़ाने के 10 टिप्स

ससुराल वालों को अपना बनाने के 10 कदम

रिश्तों में रोक-टोक से बचें और स्पेस दें

 

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।