Good touch bad touch

बच्चों की पहली गुरू मां ही होती है। वो बच्चों की गाइड, दोस्त, सब कुछ होती है। इसलिए तो बच्चे को कुछ होता नहीं है कि मां को पहले पता चल जाता है। कुछ अनहोनी भी होने वाली होती है तो मां को पहले आभास हो जाता है।

ऐसे में आज की दुनिया में जब मां-पिता दोनों वर्किंग है और बच्चे स्कूल और क्लासेस करने के कारण दिन के अधिकतर घंटे बाहर ही रहते हैं, तोउन्हें गुड टच और बैड टच के बारे में बताने की सबसे पहली जिम्मेदारी आपकी है। चलिए जानते हैं बच्चों को good touch bad touch के बारे में कैसे बताएं।

Good Touch Bad Touch

बड़े होते बच्चों के लिए यौन शिक्षा देनी बहुत जरूरी है। विदेशों में तो इनके लिए स्कूलों में अलग से क्लासेस होती हैं। भारत में अभी ऐसा नहीं है। ऐसे में मां-पिता की जिम्मेदारी है कि वे घर पर ही बच्चों को गुड टच और बैड टच के बारे में बताएं। इसमें संकोच करने की जरूरत नहीं है। ये आपके बच्चे की सुरक्षा के लिए ही है।

इन तरीकों से बताएं-

1. उन्हें कार्टून वाले छोटे-छोटे वीडियो दिखाइए।

2. छोटी-छोटी कहानी के जरिये भी बता सकती हैं।

3. खेल-खेल में बताइए।

अच्छा स्पर्श (Good Touch)

बच्चों को ऐसे बताएं, क्या होता है Good Touch Bad Touch 7

जब कोई आपको छूता है और उसके छूने से आपको प्‍यार का एहसास होता है या अच्‍छा लगता है या कोई छूकर आपको सुरक्षित महसूस करवाता है, तो इसे गुड टच कहते हैं। बच्‍चों को बताकर ही नहीं बल्कि खुद करके समझाएं।
बच्‍चे को समझाएं कि जब आपका कोई दोस्‍त आपका हाथ पकड़ता है, तो उसे अच्‍छा फील होता है।
उसे बताएं कि उसका शरीर सिर्फ उसका है और उस पर किसी और का हक नहीं है इसलिए कोई उसे वैसे नहीं छू सकता है, जो उसे पसंद न हो।

बुरा स्पर्श (Bad Touch)

जब किसी के छूने से आपको अजीब लगे और अच्छा महसूस ना हो तो ये बैड टच होता है। अगर कोई अनजान व्यक्ति गलत जगह या आपके प्राइवेट पार्ट्स को गलत छूने की कोशिश करे तो ये बैड टच होता है।

इसे ऐसे समझें, जैसे-

हाथ मिलाना

हाथ कई तरह से मिलाए जाते हैं। लेकिन हाथ मिलाने के अपने तरीके होते हैं। किसी-किसी के हाथ मिलाने से शरीर में ऊर्जा का संचार होता है, तो किसी के हाथ मिलाने से आप अनकंफर्टेबल महसूस करने लगते हैं। जैसे कि कई बार अनजान व्यक्ति हाथ मिलाते वक्त जोर से आपके हाथ को दबाता है या आपके करीब आता है तो ये गलत है। इस स्थिति में अपने बच्चे को तुरंत हाथ छोड़ने और उस अजनबी व्यक्ति से दूर रहने की सलाह दें।

Good Touch Bad Touch

शाबासी देना

ऐसा लड़कियों के साथ अक्सर होता है। स्कूल में कई टीचर्स पीठ पर शाबासी देने के वक्त ब्रा के हुक खोल देते हैं। ऐसी स्थिति में बच्चे को तुरंत कंप्लेन करने या घर पर बताने को कहें। अगर छोटी उम्र में बच्चे बोलना नहीं सीखेंगे तो वे बड़े होकर भी बोल नहीं पाएंगे।

गालों को टच करना

कई बार ऐसा होता है कि कोई बच्चा हमें पसंद आता है, तो सबसे पहले हम उसके गालों को चूम लेते हैं। ये तो हमारा प्यार होता है। लेकिन इसी तरह से अपने गलत इरादों को अंजाम देने के लिए लोग बच्चों के गाल को टच करते हैं। जिसके बारे में बच्चों को समझ नहीं आता कि उस फलाना आदमी के ही छूने से उन्हें बुरा क्यों लगा ?
फिर धीरे-धीरे बच्चे हर किसी के संपर्क में आने से डरने लगते हैं। ऐसे में बच्चे को पहले ही समझा दें कि गालों को छूने पर अगर अजीब महसूस होता है तो वे तुरंत रो सकते हैं या उस आदमी के ऊपर चिल्लाते हुए उनसे दूर हट सकते हैं।

Good Touch Bad Touch

कंधे में हाथ रखना

इस तरह की हरकत बस या पार्टीज़ में ज्यादा होती है। लोग बच्चों के कंधे पर हाथ रखकर उन्हें गलत तरीके से छूते हैं। कई बार तो कंधे पर हाथ रखकर लोग बच्चों को अपने करीब ले जाते हैं या बच्चों के करीब जाने की कोशिश करते हैं। इन सारी हरकतों से अपने बच्चों को सतर्क रहने के लिए कहें।

चॉकलेट देने के बहाने इधर-उधर छूना

हाइवे मूवी में आलिया भट्ट अपने अंकल से कहती है क्यों अंकल आज चॉकलेट नहीं लाए ? आज बाथरुम में नहीं ले चलेंगे ? या केवल उस फिल्म की घटना नहीं थी, बल्कि हर घर की घटना थी। हर किसी के जिंदगी में ऐसे अंकल जरूर होते हैं। लेकिन आपको अपने बच्चों को ऐसे अंकलों से दूर रखना है।

Good Touch Bad Touch

बच्चों से बातें शेयर करवाएं

ये सब बातें सिखाने के लिए अपने बच्चों को सबसे पहले ये विश्वास करवाएं कि वह आपसे कुछ भी शेयर कर सकते हैं। इसके लिए छोटी उम्र से ही बच्चों के साथ विश्वास का रिश्ता कायम करना शुरू कर दें। कुछ बच्चे अगर आपको बताते हैं, तो उस पर बच्चों को डांटने की जगह समझाएं। अगर आप डांटेंगी तो बच्चे आपसे डर जाएंगे और आपको कुछ बताएंगे नहीं। अगर वह कुछ गलत भी करता है तो उसे समझाएं कि ऐसा करना गलत है। फिर देखिएगा, बड़े होने पर आपको अपने बच्चे की चिंता नहीं करनी पड़ेगी। वे अपने साथ दूसरों के लिए भी आवाज उठा सकेंगे।

Leave a comment

Cancel reply