googlenews
औली

बर्फीली वादियां

ठिठुरती ठंड में घर से बाहर निकलने का भले ही मन न करता हो लेकिन
बात जैसे ही बर्फीली वादियों में घूमने की आती है हम सब चहक उठते हैं। सिर्फ वहां जाने की बात से मन मयूर नाच उठता है और मन में कल्पना का ज्वार हिलोरें मारने लगता है। स्विटजरलैण्ड की बर्फीली वादियों को भले ही यशराज फिल्मों ने हमारे दिलो-दिमाग में बसा दिया हो, लेकिन सच तो यह है कि बर्फीली वादियां हमारे देश की जितनी खूबसूरत हैं, उनकी तुलना किसी अन्य स्थान से की ही नहीं जा सकती है। फिर चाहे कश्मीर की वादियां हों या गंगटोक की बर्फ ढकी पहाडिय़ां, इतनी खूबसूरत बर्फीली यायावारी की जगहें अपने यहां हैं कि पूरी जिंदगी कम लगेगी यहां जाने के लिए। बावजूद इसके, हम अपने जीवन के कुछ पल इन जगहों पर कोलाहल से दूर शांति और सुकून की चाह में जरूर बिता सकते हैं।

कश्मीर घाटी
(पहलगाम, सोनमर्ग और गुलमर्ग) इस करिश्माई घाटी में कुछ ऐसी बात है कि वहां जाने के बाद हम शारीरिक रूप से तो वापस लौट आते हैं लेकिन हमारा दिल वहीं रह जाता है। पहलगाम में तो मौसम इतना खुशनुमा होता है कि आप वहां ट्रेकिंग के साथ ही घुड़सवारी का लुत्फ भी उठा सकते हैं। इससे भी अधिक खूबसूरत और नायाब जगह है गुलमर्ग। स्कीइंग स्लोप और ऊंचे गोंडोला राइड के लिए पहचाना जाने वाला गुलमर्ग बर्फ से ढके पहाड़ों की खूबसूरती के लिए जाना जाता है। यहां के पहाड़ों में बसी शांति और पर्यटकों का कोलाहल अपने आपमें विरोधाभास की कहानी कहते जरूर हैं लेकिन जो एक बार यहां आता है, यहीं का होकर रह जाता है। इन दो स्थानों के अलावा सोनमर्ग कश्मीर घाटी में एक ऐसी जगह है, जिसे सरकार ने गुलमर्ग की तरह विकसित नहीं किया है और यही इसकी खासियत है। इसकी ऊंचाई पर पहुंचकर कहवा पीने में जो आनंद है, उसे शब्दों में बयान करनाा मुश्किल है। यहां की सुरमयी शांति आपके मन को एक विशेष किस्म का सुकून प्रदान करती है। दूर-दूर तक फैले
बफीर्ल पहाड़ आपको कहानी सुनाते प्रतीत होते हैं। सोनमर्ग के पहाड़ के दूसरी तरफ पाकिस्तान की सीमा शुरू होती है।

औली
अमूमन साल के अधिकतर महीने शांत रहने वाला औली बर्फ के मौसम में जाग उठता है ताकि यह देश-विदेश से आए पर्यटकों का स्वागत करने के
लिए तैयार रहे। यहां के स्की स्लोप्स दुनिया भर में विख्यात हैं। स्नोफॉल के दौरान इसकी खूबसूरती को केवल आंखों से देखकर महसूस किया जा सकती है। यदि आपका इरादा इन दिनों बर्फबारी देखने का है तो परिवार के साथ यहां जरूर जाएं। प्रसिद्ध हिल स्टेशनों से अलग हटकर औली उन लोगों के लिए बेहतरीन डेस्टिनेशन है, जो आम हिल स्टेशनों का दौरा करके बोर हो चुके हैं।

मनाली
यदि आपको लगता है कि बर्फबारी का मजा चुप न रहने में है तो आपको मनाली जाने की जरूरत है। यहां गिरते बर्फ के साथ पर्यटक इतना ज्यादा कोलाहल करते हैं कि आप न चाहते हुए भी उनके शोर में अपनी आवाज समेटने को आतुर हो उठते हैं। बर्फ के गोले बनाकर एक-दूसरे पर फेंकने का अलग अनुभव है। लाठी के सहारे बर्फीली पहाडिय़ों पर चढ़ते जाना और बर्फ के सफेद कालीन पर लोटने-पोटने के अनुभव को वही बयान कर सकता है, जिसने इसका लुत्फ उठाया हो। ऊपर नीले आसमान के साथ नीचे सफेद इतनी खूबसूरत बर्फीली यायावारी की जगहें अपने यहां हैं कि पूरी जिंदगी कम लगेगी यहां जाने के लिए। बावजूद इसके, हम अपने जीवन के कुछ पल इन जगहों पर कोलाहल से दूर शांति और सुकून की चाह में जरूर बिता सकते हैं। कालीन एक-दूसरे का पर्याय लगते हैं। स्कीइंग और आइस स्केटिंग के प्रेमियों के लिए मनाली सटीक जगह है। गिरती बर्फ के बीच नए साल का आगाज आपको सपनों में ले जाता है।

पटनीटॉप
भले ही निचले हिमालय में स्थित हो लेकिन पटनीटॉप को प्रकृति ने बेशकीमती खूबसूरती से नवाजा है। यहां हर साल गिरती बर्फ के साथ पर्यटकों का आन-जाना लगा रहता है, जो यहां की शांति और नायाब खूबसूरती को देखने के साथ ही स्कीइंग, पैराग्लाइडिंग और स्लेजिंग के लिए सर्दियों में एडवेंचर की गर्माहट पाने के लिए आते हैं। यदि आप शिमला और मनाली की भीड़ में नहीं खोना चाहते हैं तो अपने बैग पैक करके पटनीटॉप पहुंच जाइए और यहां की प्रकृति के साथ फुर्सत और प्यार के दो पल बिताइए।

गंगटोक

औली
करिश्माई बर्फीली वादियों में यायावारी 5

 

  

सिक्किम की खूबसूरत राजधानी गंगटोक में बर्फ देखने के साथ ही आपको ताजी स्वच्छ हवा को सांसों में भर लेने का भी अनुभव होता। यहां की हवा में जो ताजगी है, वादियों में जो पारदर्शिता है, वह आपकी सारी इन्द्रियों को काबू में कर लेने में सक्षम है। पहाड़ों को धीरे-धीरे अपनी आगोश में भर लेने को बेताब रुई जैसे बर्फ के टुकड़ों की खूबसूरती को अपनी आंखों के कैमरे में कैद कर लेने का सुख यहीं मिलेगा। चारों ओर की खूबसूरती आपको किसी फिल्म के दृश्यों से कम नहीं लगेगी, यह आपको जादू की दुनिया में सैर कराने को ले जाएगी। यहां कई मोनेस्ट्री हैं, जो आपको बर्फीली वादियों में पहले से कहीं ज्यादा सुकून पहुंचाने को बेताब मिलेंगे। इस मौसम में हिमालयन जूलॉजिकल
पार्क में जाकर लाल पाण्डा और स्नो लेपर्ड को देखने का मौका भी छोडऩे वाला नहीं है।  

युमथांग

 

औली
करिश्माई बर्फीली वादियों में यायावारी 6

 

 

सिक्किम के उत्तर में स्थित युमथांग एक खूबसूरत स्थान है। और इसलिये इसे ‘फूलों की घाटी कहा जाता है। यहां लाल, नारंगी, बैगनी, पीले और सफेद रंग के फूल देखने को मिल जाते हैं। प्राकृतिक सौंदर्य से समृद्ध इस स्थान पर वसंत ऋतु के दौरान खिले गुलाब व बुरुंश जैसे सुंदर जंगली रंगीन फूल बहुत सारे पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। इसके अलावा, इस खूबसूरत स्थल के चारों ओर अनेक आकर्षक स्थल हैं। साल में ज्यादातर समय युमथांग अभयारण्य फूलों से लकदक रहता है लेकिन सर्दियों में यानी अक्टूबर से फरवरी-मार्च तक यहां जबरदस्त बर्फ पड़ती है और अक्सर बर्फ पड़ते वक्त हर तरफ से यहां जाने-आने के रास्ते बंद कर दिये जाते हैं। युमथांग के दाहिनी ओर स्थित गर्म पानी का झरना एक और पर्यटक आकर्षण है। यह स्थान भी हरे-भरे घास के मैदानों, शांत चीड़ वृक्षों एवं चांदी से चमकते देवदार वनों, खूबसूरत झरनों तथा नदियों के साथ अपनी प्राकृतिक खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध है।

धनौल्टी
उत्तराखण्ड में मसूरी के बारे में सभी जानते हैं, जो सर्दियों में गुलजार हो उठता है। यहां से केवल 26 किलोमीटर की दूरी पर स्थित धनौल्टी एक छोटा लेकिन अप्रतिम खूबसूरती को संजोए एक गांव है, जहां ओक, पाइन, सेडार जैसे पेड़ इसकी रक्षा करते नजर आते हैं। सर्दियों में बर्फ गिरने के समय यह गांव संगमरमर की तरह चमक उठता है, जहां प्यार के पल बिताने के लिए आए युवा जोड़े इस चमक के साथ चहक उठते हैं। चूंकि यह अभी भी बहुत कमर्शियलाइज्ड नहीं है तो सर्दियों के मौसम में बर्फ का लुत्फ उठाने के लिए यहां की सैर कम करिश्माई नहीं लगेगी।

वैष्णो देवी
शक्ति के रूप वैष्णो देवी के इस स्थान का दर्शन लोग देवी के आशीर्वाद को प्राप्त करने की इच्छा में आते हैं। लेकिन सर्दियों में बर्फ गिरने के दौरान यहां आने से आपका यह अनुभव और करिश्माई हो सकता है। जमीन पर बिछी बर्फ की परत किसी सफेद कालीन से कम प्रतीत नहीं होती है, जो आपको 14 किलोमीटर की ऊंचाई पर देवी मां के दर्शन के लिए ले जाएगी। बर्फ की सफेद परत से ढकी देवी मां का भवन किसी स्वर्ग से कम प्रतीत नहीं होता।

तवांग

 

 

औली

 

 

 

 

 

 

 

 

 

दिव्य हिमालय खुद को उत्तर-पूर्व की ओर भी लेकर गया है, जहां कस्बाई संस्कृति से ओत-प्रोत कई स्थानों ने अब पर्यटकों को आकर्षित करना शुरू कर दिया है। तवांग उन सभी स्थानों से बेहतरीन है, जहां सर्दियों में आने का अपना ही मजा है। बर्फ से ढके बौद्ध विहार, जायकेदार तिब्बती खान-पान और लोगों के चेहरे पर रहने वाली स्थायी मुस्कान आपकी सर्दी की छुट्टियों को गुनगुना बनाने में सक्षम हैं। बर्फ से जमी झील पर ट्रेकिंग करना हो तो इससे बेहतरीन कोई दूसरी जगह नहीं है। चूंकि यहां कम पर्यटक ही आते हैं तो मनोरंजन के साथ ही सुकून के पल बिताने वालों के लिए तवांग से बेहतरीन कोई दूसरी जगह नहीं है।

लावा
बागडोगरा के नजदीक लावा के बारे में कम लोगों को ही पता है। बर्फीली बारिश का लुत्फ उठाने के लिए साथ ही पर्यटक यहां कंचनजंगा पहाड़ के खूबसूरत दृश्य को सालों तक नहीं भूल सकते हैं, जो विश्व के ऊंचे पहाड़ों में से एक है। इस शांत और मनोरम स्थान पर ट्रेकिंग के साथ ही आप विभिन्न पक्षियों के दर्शन भी कर सकते हैं, जो कहीं और आपको देखने के लिए नहीं मिलेंगे। साथ ही यहां कई ऐसी सब्जियां भी मिलेंगी, जिनके बारे में आपने केवल सुना होगा।