वैसे तो फाइनेंशियल प्लानिंग करने की कोई उम्र नहीं होती है। लेकिन, लोग शादी के बाद भविष्य सुरक्षित करने के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग करते हैं। उन्हें लगता है जब जिम्मेदारी आएगी, तब ही करेंगे। दरअसल अब समय बदला रहा है और शादी के पहले सिंगल रहते हुए मनी प्लानिंग कर ली जाए तो भविष्य ज्यादा सुरक्षित होगा। इसलिए अगर आप अभी सिंगल हैं तो मनी प्लानिंग पर ध्यान देना शुरू कर दीजिए। इसके लिए आपको खर्चों में कटौती करनी होगी साथ ही निवेश के भी नए से नए तरीके आजमाने होंगे। कैसे करेंगी ये सब चलिए जानते हैं-

इमर्जेंसी फंड सबसे पहले-

इमर्जेंसी फंड यानि जरूरत के समय काम आने वाला फंड। ये वो फंड है, जो बुरे समय में साथी बन जाएगा। बुरा समय माने नौकरी हाथ से चली जाए, घर में कोई बीमार पड़ जाए, बच्चों को या आपको खुद आगे पढ़ाई करने का मन करे। अब ऐसे में आपको पैसे की जरूरत पड़ेगी, उसे उधार लेने से अच्छा है कि आप उन पैसों को खुद ही जोड़ लें। यही पैसे इमर्जेंसी फंड कहलातें हैं। मगर इमर्जेंसी फंड में जमा कितना किया जाना चाहिए? 1 महीने के लिए दो महीने के लिए? नहीं इमर्जेंसी फंड को जमा करना शुरू करें तो फिर बंद न ही करें। कोशिश करें इसमें 6 महीने के आपके खर्चों जितने पैसे जरूर हों। मतलब कम से कम 6 महीने के खर्चों के लिए ये फंड आपकी मदद कर सके। इसको अपने वेतन का कम से कम 5 प्रतिशत तो जोड़े हीं।

हेल्थ इंश्योरेंस भी है जरूरी-

हेल्थ इंश्योरेंस अब ज्यादातर लोग करा ही लेते हैं। लेकिन, सिंगल लोग इसकी अहमियत नहीं समझते हैं। मगर सिंगल होते हुए भी हेल्थ इंश्योरेंस ले लेना भविष्य के लिए अच्छा रहता है। इस तरह से आप अपनी लाइफ की सुरक्षा खुद ही कर रहे होते हैं। इसलिए हेल्थ इंश्योरेंस कराने के लिए परिवार वाला या वाली बनने की जरूरत बिलकुल नहीं है। इसके पहले भी आप हेल्थ इंश्योरेंस करा सकती हैं।

घर में करें निवेश-

घर खरीदना और इसके सपने देखना अब सभी के लिए एक जरूरी काम सा हो गया है। सभी युवा जल्द से जल्द घर खरीद कर कम उम्र में ही लोन पूरा कर लेना चाहते हैं। आपने अगर अभी तक ऐसा नहीं सोचा है तो अब सोचिए और कम उम्र में ही एक घर की मालकिन बनने की प्लानिंग कीजिए। इसके कई फायदे होते हैं एक तो किराया बचता है, दूसरे उस शहर में न होने पर उस घर से मिलने वाला किराया पहले आपको ईएमआई भरने और फिर निवेश में काफी मदद करता है। शादी के बाद ये घर ही आपके लिए मजबूत सहारा बनेगा। इसलिए आज ही घर खरीदने की प्लानिंग कीजिए और इसे पूरा भी कीजिए।

म्यूचुअल फंड है सही चुनाव-

म्यूचुअल फंड आपके लिए निवेश का सही चुनाव हो सकता है। इसमें हर महीने कुछ निश्चित रकम देनी होती है, जो शेयर मार्केट के उतार-चढ़ाव के हिसाब से बढ़ती-घटती है। एक निश्चित रकम के नियम से काटने के साथ आपके पास, आपके नाम पर एक बड़ा एमाउंट बन जाता है। अब इस रकम को आप कभी भी और किसी भी समय पर निकाल कर अपनी जरूरत पूरी कर सकती हैं। ये म्यूचुअल फंड आप चाहें तब निकालें और फिर हर महीने पैसे जमा करने लगें।

सोने पर लगाएं पूंजी-

सोने के जेवर पहनने का शौक नहीं है तो हम इसे खरीदेंगे भी नहीं। अगर आप भी ऐसी सोच रखती हैं तो अब इसे बदल लीजिए। सोने के जेवर निवेश का बेहतरीन जरिया तो होते ही हैं ये बुरे समय में मदद भी खूब करते हैं। मतलब आप इनको बेच कर अपने लिए पैसों का इंतजाम आसानी से कर सकते हैं। ये जेवर आपके लिए आर्थिक मजबूती का साधन बनेंगे। इन्हें खरीदिए, शौक पूरे कीजिए और निवेश कीजिए। अकेले होते हुए किए गए ये निवेश आपके काम ही आएंगे।

कमाई का दूसरा जरिया-

कमाई का दूसरा जरिया सुनकर ऐसा लग रहा होगा मानो हम आपसे दूसरी नौकरी करने के लिए कह रहे हैं। लेकिन ऐसा नहीं है अप सभी काम ऑनलाइन होते हैं। ऐसे में नौकरी करते हुए डाटा इंट्री या फिर ट्रांसलेशन जैसे काम करना आपके लिए कमाई का दूसरा जरिया साबित हो सकते हैं। ऐसे ही कई दूसरे काम भी ऑनलाइन मिल जाते हैं जैसे ग्राफिक डिजाइनिंग, सॉफ्टवेयर मेकिंग, प्रूफ रीडिंग आदि। आप ऐसे ही कई कामों को अपने प्रोफेशन के हिसाब से चुन सकती हैं। इस तरह से आप एक्सट्रा कमाई तो कर ही पाएंगी, आपके  स्किल भी डेवलेप होंगे।

कुंवारे हैं तो क्या चिंता-

अक्सर ये कहा जाता है कि कुंवारे हैं तो हमें पैसों की क्या चिंता। लेकिन ये सोच गलत है। आपको पैसों की चिंता करनी होगी और बजट में ही इसे खर्च भी करना होगा। हर महीने के खर्चों का एक बजट बनाएं और फिर उसी के हिसाब से खर्चा करें। तब ही आपके निवेश की प्रक्रिया पूरी हो पाएगी। इसलिए इस नियम को बिलकुल न भूलें।

Leave a comment