इसी ठिठोली के बीच में मैं शर्म से पानी पानी हो गई थी। ये बात तब कीहै, जब मैं ससुराल में नई-नई थी। घर के सभी लोग आंगन में बैठे थे और मुझे उसी समय तेज की टॉयलेट लगी, जैसे ही मैं उठी, वैसे ही मेरे पतिदेव मुझे छेड़ने लगे और मैं किसी के सामने कह भी नहीं सकती थी कि मुझे टॉयलेट जाना है। उस समय तो ऐसा लग रहा था कि चिल्ला के कहूं मुझे टॉयलेट जाना है। लेकिन ऐसा कर भी नहीं सकती थी। तभी मुझे तेज की छींक आई और मेरा टॉयलेट वहीं निकल गया। सब मेरा मुंह देखते रह गए और मेरा चेहरा शर्म से लाल हो गया।

2- ‘कौन से वाले

दीदी की शादी थी। मैं अपनी सहेलियों के साथ बातों में मशगूल थी। इतने में छोटे भैया आए और बोले कि सुमन चलो तुम्हें पापाजी बुला रहे हैं। तेज चलते गानों की आवाज के कारण मुझे सुनाई दिया कि भैया चाचाजी कह रहे हैं। क्योंकि हमारे तीन चाचाजी हैं इसलिए मैंने जोर से पूछा कि कौन से वाले बुला रहे हैं। यह सुनकर भैया चौक पड़े और वहां खड़ी मेरी सहेलियां जोरों से हंसने लगीं। पहले तो मुझे समझ में नहीं आया कि ये लोग क्यों हंस रही हैं? लेकिन जब अपनी कही बात समझ में आई तो शर्म से लाल हो गई और चुपचाप वहां से खिसक ली।

3- चादर की सिलवटें

भतीजी की शादी थी। हम सब लोग शादी में गए हुए थे। मेरे दूसरे नंबर वाले जीजाजी बहुत ही बातूनी हैं। भाभी शादी के काम में व्यस्त थी। मैंने दीदी से कहा कि भाभी दूसरा काम कर रही हैं। अत: आप नाश्ता बना लें, मैं कमरा साफ कर लेती हूं। दीदी ने कहा, ‘ठीक है’ मैं धीरे-धीरे कमरा साफ कर रही थी कि इतने में जीजाजी कमरे में आए, मुझे कमरा साफ करते देख कर बोले, अरे साली जी, यह क्या कर रही हैं। तुम्हारा तो हाथ दर्द कर रहा है। तुम्हारी दीदी कर लेगी। मैंने कहा, नहीं नहीं, झाडू-पोंछा तो हो गया है। चादर की सिलवटें ठीक कर रही हूं। जीजाजी बोले, मैं कुछ मदद कर दूं। यह तुम्हारे अकेले के बस की बात नहीं है, मैंने कहा, ठीक है, कर दीजिए मदद, लेकिन जरा जल्दी करना। वह बोले, ‘ठीक है।’ कह कर मंद-मंद मुस्कुराने लगे। तभी मेरे पतिदेव अंदर आ गए। बोले, ‘साली-जीजा में सवेरे-सवेरे क्या गपशप हो रही है।’ जीजाजी बड़ी मासूमियत से बोले, ‘अरे भाई साहब! साली जी, सिलवटें निकालने को कह रही थी,’ और ठहाका लगा कर हंस पड़े, साथ में पतिदेव भी जोरों से हंस पड़े। जब मुझे अपनी कही बात का अर्थ समझ में आया तो चेहरा शर्म से लाल हो गया और मैं किचन की तरफ भाग गई। कमरे में फिर दोनों का मिला-जुला ठहाका गूंज उठा।

यह भी पढ़ें – बिना कपड़ों के ही रखा