हिंदी में मुस्कुराया

~~~~
हिंदी पखवाड़ा मनाने की
चख चख के दौरान
मैंने कहा ~बड़े बाबू !
आप साल भर तो
सारा काम काज
अंग्रेजी में निपटाते हैं
लेकिन हफ्ता पन्द्रह दिन के लिए
एकदम बदल जाते हैं
सिफ हिंदी हिंदी चिल्लाते हैं
सच सच बताइये बड़े बाबू
आप को अपने आफिस की कसम
इस बार भी आपको क्या 
हिंदी पखवाड़ा मनाने का ख्याल 
अचानक ही आया है
 बड़े बाबू मुस्कराकर बोले
शोर मत मचाइए
मैंने फिर दोहराया 
लेकिन आप को कैसे पता चला
ऐसे क्योंकि
पिछले साल की ही तरह 
आज फिर हमारा बॉस 
कुर्सी पर बैठते ही 
हिंदी में मुस्कुराया है।

यह भी पढ़ें –एहसास – गृहलक्ष्मी कहानियां

-आपको यह कहानी कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रियाएं जरुर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही आप अपनी कहानियां भी हमें ई-मेल कर सकते हैं-Editor@grehlakshmi.com

-डायमंड पॉकेट बुक्स की अन्य रोचक कहानियों और प्रसिद्ध साहित्यकारों की रचनाओं को खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें-https://bit.ly/39Vn1ji