भारत में जलवायु पूरे वर्ष स्थिर नहीं रहती है, यह बदलती रहती है। भारत के चार मुख्य मौसम हैं, गर्मी, मानसून, पतझड़ और सर्दी। जैसे-जैसे मौसम बदलता है, हमारे शरीर की मेटाबॉलिक प्रोसेस भी उसके अनुसार बदलती रहती है। इसलिए यह जानना आवश्यक है कि इन मौसमों के दौरान हमें क्या खाना चाहिए।

गर्मी

फरवरी, मार्च, अप्रैल और मई चार महीने हैं जब वातावरण में हवा गर्म होती है। अत: इस ऋतु को ग्रीष्म ऋतु कहा जाता है। इन महीनों के दौरान, भारत में सौर किरणें समानांतर होती हैं और इसलिए हमारे देश को इस गर्म मौसम का सामना करना पड़ता है।

हमें गर्मी के दिनों में बहुत सारा पानी पीना चाहिए। पानी हमारे शरीर से विषैले तत्वों को निकालता है। इस मौसम में हमें आमपन्ना, गन्ने का रस और नींबू का रस पीना चाहिए। हमें दिन के समय घर से बाहर जाने से पहले छाछ पीनी चाहिए। कुछ फल जैसे आम, कटहल, तरबूज और कस्तूरी मौसमी फल जो कि गर्मियों के मौसम में मौजूद होते हैं। ये सब हमें गर्मी के दिनों में खाना चाहिए।

मानसून

जून, जुलाई, अगस्त और सितंबर चार महीने हैं, जब बारिश होती है। अत: इस ऋतु को वर्षा ऋतु कहा जाता है। इन महीनों के दौरान, दक्षिणी गोलार्ध से भारत की ओर हवाएं बहतीं हैं। इन हवाओं को ‘दक्षिण-पश्चिम मानसूनी हवाएं’ कहा जाता है। इसलिए बरसात के मौसम को ‘मानसून का मौसम’ भी कहा जाता है।

इस मौसम में विशेष देखभाल की जानी चाहिए क्योंकि उच्च आर्द्रता के कारण सूक्ष्म जीव पूरे मौसम में सक्रिय रहते हैं। हमें हल्का और मध्यम भोजन करना चाहिए। हल्का और कसैला भोजन जैसे रेशेदार सब्जियां, चिचिण्डा, लौकी, करेला आदि इस मौसम में खाने चाहिए क्योंकि ऐसे खाद्य पदार्थ को पचाने में आसानी होती है। मानसून के मौसम में ताजा और गर्म भोजन खाना चाहिए।

सर्दी

अक्टूबर, नवंबर, दिसंबर और जनवरी महीनों के दौरान वातावरण में हवा ठंडी होती है। इसलिए इस मौसम को सर्दियों का मौसम कहा जाता है। सर्दियों में हवा ठंडी और शुष्क होती है और कभी-कभी जब शीत लहर पड़ती है तो ठंड और बढ़ जाती है। यह मौसम सूक्ष्म जीवों के लिए नहीं होता है इसलिए वे इस मौसम में ज्यादातर नहीं दिखाई देते हैं। इस सीज़न के दौरान, लोगों को आमतौर पर ठंड और हाइपोथर्मिया की समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। हाइपोथर्मिया के कारण कई लोग मर भी जाते हैं।

सीजन के दौरान, शरीर को गर्मी और ऊर्जा देने वाले भोजन की आवश्यकता होती है। इसलिए हम मिठाई, सूखे मेवे, मूंगफली, तिल खाते हैं जो बहुत सारा तेल प्रदान करता है। इन दिनों हम गाजर का हलवा, बाजरे की रोटी, बैगन, गोंद के लड्डू, खजूर, बादाम, तिल और गुड़ भी खूब खाते हैं।

वसंत और शरद ऋतु

ये दो मौसम में परिवर्तन को दर्शाते हैं और इसी दौरान अक्सर लोगों को स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों का खतरा होता है। इस समय हमें अपने आहार में शहद शामिल करना चाहिए। इसे भारत में लोग खाने-पीने की चीजों में स्वीटनर के रूप में इस्तेमाल करते हैं। आप इसे सीधे भी खा सकते हैं। बाजरा इस मौसम में खाया जा सकता है और फलियों को खाना चाहिए। ये शरीर की किसी भी नमी को बाहर निकालने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़ें –11 टिप्स फॉर हैल्दी स्किन

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-editor@grehlakshmi.com