अपने शरीर को खतरनाक टॉक्सिंस से मुक्त करने के सबसे अच्छे तरीकों में एक है खूब सारा पानी पीना। अपने दिन की शुरुआत पानी से करें। डिहाइड्रेशन यानी पानी की कमी से बचने के लिए रोजाना 8-10 गिलास पानी पिएं। पानी शरीर की टॉक्सिंस बाहर निकालने में मदद करता है और साथ ही शरीर से अतिरिक्त वसा को बाहर करता है। जरूरी नहीं है कि आप हमेशा सादा पानी पिएं। डिटॉक्स के लिए दो साधारण रेसिपी के जरिये स्वस्थ जीवन की ओर बढ़ाएं कदम।

डिटॉक्स वॉटर रेसिपी

सामग्री: 1 लीटर साफ पानी, आधा कटा नींबू, आधा कटा चकोतरा (ग्रेपफ्रूट), 1 कप कटा हुआ खीरा, कद्दूकस किया हुआ, मुट्ठी  भर पुदीने की पत्तियां।

विधि: सभी सामग्रियों को बड़े कटोरे में मिलाएं।  इच्छा के अनुसार आइस क्यूब मिलाएं या पीने से पहले कम से कम 2 घंटे फ्रीजर में रखें।

सावधानी- इस रेसिपी को 24 घंटे के अंदर ही पी लेना चाहिए, ताकि सामग्रियां ज्यादा नरम न हो जाएं और खट्टापन ज्यादा न हो जाए।

डायटरी फाइबर को रखें याद 

फाइबर हमारे भोजन का जरूरी घटक है, जो आंतों की गतिविधियों को निखारने और जहरीले तत्वों को बेहतर तरीके से शरीर से बाहर करने में मदद करता है। आप अपने डिटॉक्स प्लान में फाइबर वाले खाद्य जैसे सब्जियां, फल और सूखे मेवे शामिल कर सकते हैं। डायटरी फाइबर से भरी डायट जरूरी विटामिनों और मिनरल्स जैसे विटामिन सी आदि के अवशोषण की प्रक्रिया को सुधारता है। उदाहरण के तौर पर अगर आप अपनी त्वचा की सेहत को सुधारना चाहते हैं तो अपने खानपान में विटामिन सी को शामिल करें। विटामिन सी एक एंटीऑक्सीडेंट है, जो त्वचा की सेहत को सुधारता है और डायटरी फाइबर शरीर में विटामिन सी के अवशोषण की प्रक्रिया को तेज करता है। यहां हम एक ऐसी रेसिपी बता रहे हैं, जो भोजन में जरूरी डायटरी फाइबर की मदद से आपको डिटॉक्स में मदद करेगी।

खरबूजे की चटनी के साथ सेब और लेटस का सलाद 

सामग्री: ½ कप कटे हुए सेब, 1 कप लेटस (टुकड़ों में कटे हुए), ½ कप कटी हुई पत्तागोभी, द कप कद्दूकस की हुई गाजर, द कप कद्दूकस किया हुआ चुकंदर, द कप कटी हुई शिमला मिर्च (लाल या पीली), ½ कप हरे अंगूर, 1 चम्मच नींबू का रस।

खरबूजे की चटनी के लिए– ½ कप खरबूजा, ½ चम्मच भुना और पिसा हुआ जीरा, द कप कटी हुई धनिया, नमक और काली मिर्च।

विधि: एक बड़े कटोरे में चटनी के साथ सभी सामग्रियों को अच्छी तरह से मिलाएं तुरंत परोसें। 

डिटॉक्स का मुख्य उद्देश्य है लिवर, किडनी और आंत जैसे अंगों से बोझ कम करना। यह मेटाबॉलिज्म के साथ-साथ पूरे शरीर के लिए अच्छा है, क्योंकि इससे शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ता है और पाचन सुधरता है, इसलिए बार-बार मत सोचें, बस डिटॉक्स करें।

यह भी पढ़ें –कहीं ब्यूटी न बिगाड़ दे आपका पार्लर

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-editor@grehlakshmi.com