घर की एक प्रमुख जगह होती है घर कि रसोई। अमीर हो या ग़रीब सबके लिए रसोई का होना बहुत ज़रूरी होता है। वैसे तो रसोई मे सामान ही सामान होता हैं। बर्तन और खाने का सामान इन सबसे हरी भरी होती है, हर घर की रसोई। रसोई हमको जीवित रहने के लिए भोजन देती है और भोजन से जो सकारात्मक शक्ति हमको मिलती है उसका शुद्ध होना बहुत ज़रूरी हैं। परंतु अनेक बार हम ख़ुद ही अपने रसोई घर को वास्तु दोषों से भर लेते है। ये ग़लती होती है हमसे रसोई में सामान को रखने में ख़ासकर चाक़ू और छुरी को रखने में साथ ही चाक़ू और छुरी घर में कभी भी इधर उधर रखने से भी घर के लोगों के जीवन पर ग़लत असर पड़ता हैं। ये बात बिलकुल सही है की घर की रसोई और घर में अन्य जगहों पर चाक़ू व छुरी को ग़लत तरह से रखने से बुरे असर होते हैं उस घर के लोगों और उनके जन जीवन पर क्यूँकि वास्तु के अनुसार कुछ नियम भी होते हैं जिनको अगर हम ना अपनाए तो ये हमारे जीवन और रिश्तों को दुःखों से भर देते है। जी हाँ आपसे और हम से कुछ ऐसी ग़लतियाँ होती है जाने अनजाने में चाक़ू व छुरी को रखने और उनके प्रयोग करने में। ये लेख एक छोटा सा प्रयास हैं उन ग़लतियों को बताने का ताकि आप इनको जाने और फिर दूर करे और अपने जीवन को सुखमय बनाए।

चाक़ू और छुरी रखने में होनी वाली ग़लतियाँ जो देती है जीवन भर की हानि कुछ इस तरह से।

  • अगर आप चाक़ू और छुरी को रसोई में लटका कर यानि टाँग कर रखते है तो ऐसा बिलकुल भी ना करे क्योंकि ऐसा करने से आपके घर में रहने वाले लोगों के रिश्तों में अचानक ही एक दूसरे के प्रति लगाव ख़त्म होने लगेगा साथ ही लोग बिना बात ही आपस में लड़ने लगेंगे और लटके हुए चाक़ू और छुरी के समान ही घर के लोगों को लगने लगेगा की हम आपस में रिश्तों के कारण साथ में लटके है साथ रह नहीं रहे है।
  • चाक़ू और छुरी को कभी भी सजा कर सामने दिखाते हुए नहीं रखे और जो इनका तेज़ धार वाला हिस्सा है, वो हर वक़्त रसोई में आते जाते लोगों को दिखायी नहीं देना चाहिए, इसलिए आपको चाहिए कि चाकु और छुरी को रसोई में किसी डब्बे में बंद करके ही रखे साथ ही जब आपको ज़रूरत हो आप उनको निकाले और प्रयोग करने के बाद उनको साफ़ करके ही डब्बे में रखे क्यूँकि अगर आप खुले रूप में उनको रखेंगे तो इनकी तेज़ धार आपके जीवन पर ऐसा नकारात्मक प्रभाव डालेगी जो की आपके हर सुख को प्रभावित करेगी और इसका प्रभाव घर के हर सदस्य पर पड़ेगा। घर के हर इंसान की उन्नति को ये काटने लगेगा और आप इस बात को जान ही नहीं पायेंगे दूसरी बात की चाक़ू और छुरी को इस लिए भी साफ़ रखना ज़रूरी होता हैं, काम करने की बाद क्योंकि चाक़ू से हम किसी भी चीज़ की गंदगी साफ़ करते है और उसको खाने और प्रयोग करने लायक़ बनाते है पर जब चाक़ू ख़ुद ही गंदा होगा तो वो गंदगी क्या साफ़ करेगा बल्कि अपना नकारात्मक प्रभाव डालकर उस चीज़ को ही ख़राब कर देगा जिसका प्रभाव उस चीज़ को प्रयोग करने वाले लोगों पर सीधे सीधे पड़ने लगेगा। इस लिए इन दोनो ग़लती को करने से बचे।
  • पति और पत्नी दोनो ही इस बात का ख़्याल रखे की अपने बेडरूम में कभी भी चाक़ू या छुरी ना रखे। अगर किसी भी काम के लिए लाए भी हैं तो काम होने के बाद तुरंत ही उसको वापस रसोई में उसकी सही जगह पर सही तरह से रख कर आए क्यूँकि बेडरूम में रखा चाक़ू इतना नकारात्मक ऊर्जा आपके बेडरूम में पैदा करेगा की आप सोच भी नहीं सकते। ये आपके वैवाहिक जीवन में अचानक भूचाल ला  देगा और ऐसा भूचाल जो देगा पति और पत्नी के जीवन में मान हानि, स्वास्थय हानि, धन हानि, तनाव, शंका, मतभेद, रुकावट, गिरावट इस हद तक पैदा कर देगा की सालों का वैवाहिक रिश्ता कब तलाक़ तक  पहुँच जाएगा पता ही नहीं चलेगा। इस लिए आप ये ग़लती करने से हमेशा ही बचे।
  • अगर बच्चों के कमरे में चाक़ू को आप रखते है तो ये बच्चों की शिक्षा पर अपना वार करेगा। जिसके कारण बच्चे ना केवल पढ़ायी में पीछे हो जायेंगे साथ ही उनका मन भी पढ़ायी में लगना बंद हो जाएगा।
  • अगर आप घर के ड्रॉइंग रूम में यानि मेहमान कक्ष में चाक़ू रखेंगे तो ये आपको सामाजिक रूप से हानि देगा यानि आपकी समाज के लोगों से रिश्ते ख़राब होने तक लड़ायी हो सकती हैं। साथ ही आपकी समाज में बरसों पुरानी बनी अच्छी छवि, पहचान ख़राब हो सकती है। साथ ही इसका सबसे ज़्यादा बुरा असर ये होता हैं की जब भी कोई मेहमान रूप में आपके घर आएगा और आप दिल से उसके आव- भगत यानि ख़ातिरदारी करेंगे तब भी वो आपके घर से निकलते ही सबसे पहला काम आपकी बुराई करने का ही करेगा। आपको कभी भी लोगों की तरफ़ से तारीफ़ नहीं मिलेगी और ये बात उस घर में रहने वाले हर सदस्य पर लागू होगी जो आपको अंदर तक तोड़ कर रख देगी। और एक समय ऐसा भी आएगा की जबकि आप मेहमान नवाजी करना ही बंद कर देंगे। इस लिए घर के ड्रॉइंग रूम में कभी भी चाक़ू छुरी ना रखे।
  • कटलरी को आप कभी भी डाइनिंग टेबल पर सज़ा कर ना रखे बल्कि उसको एक बॉक्स में ही रखे जब उनकी ज़रूरत हो तब ही निकाले वरना नहीं क्यूँकि चाक़ू का प्रयोग एक हथियार के रूप होता हैं ऐसे में अगर आप खाने की टेबल पर ही चाक़ू और छुरी बेकार ही सजे रहेंगे तो ये उस टेबल पर साथ बैठकर खाना खाने वाले परिवार के लोगों में बेवजह ही तकरार और तनाव पैदा करेगे,जिसका ना कारण होगा ना ही निवारण, बस होगी तो बेवजह तू तू-में में जो होगी भी तब जब सब लोग एक साथ खाना खाने के लिए खाने की मेज़ पर साथ बैठे होगे। इस लिए खाने की मेज़ पर कभी खुले रूप में या सज़ा कर कटलरी सेट को ना रखे।
  • टूटे और बिना धार के चाक़ू और छुरी कभी भी घर में प्रयोग ना करे। इस से भाग्य में रुकावट आती हैं, और बनते बनते काम भी बिगड़ जाते है।

ये तो थे लाभ और हानि चाक़ू और छुरी से जुड़े तो अब आपको बताते है, की कैसे एक छोटा सा चाक़ू आपकी रक्षा भी कर सकता है कैसे वो आपको बुरी नज़र, बुरी बला, बुरे सपनो से बचा सकता है ऐसे।

  • अगर आपको हर वक़्त डर लगता है, बुरे ख़्याल आते रहते हो, कोई अनजाना भय सताता हो तो आप एक चाँदी का छोटा सा चाक़ू ले और उसको लाल धागे में किसी भी मंगलवार को अपने गले में या जिसको भी डर लगता हो उसके गले में पहना दे हर तरह का डर और भय दूर हो जाएगा और आप ख़ुद को निडर महसूस करेंगे और बहुत जल्दी ही ये परिवर्तन आपको अपने अंदर महसूस होगा।        
  • अगर आपको बुरे सपने आते हो और आप गहरी नीद में जागकर उठ जाते हो, या आपको नीद ही नहीं आती हो तो आप काले कपड़े में छोटा सा लोहे का चाक़ू सिल ले और शनिवार के दिन से उसको अपने तकिए के नीचे रखकर सोना शुरू कर दे, आप देखेंगे की कुछ ही दिन में आपको बुरे सपने आने बंद हो जायेंगे, साथ ही नीद भी अच्छी आएगी।
  • छोटे बच्चे को नज़र बाधा और ऊपरी बाधा होने का डर सबसे ज़्यादा होता है। छोटे बच्चे बहुत जल्दी ही नज़र और ऊपरी बाधा के प्रभाव में आ जाते है। उनकी कमर में एक छोटा सा चाँदी का चाक़ू गुलाबी धागे में एक गुलाबी आभा वाले मूँगे के साथ बाँध दे,किसी भी सोमवार के दिन ही बाँधे। ये दोनो ही चीज़ें किसी भी चाँदी का सामान मिलने वाली दुकान पर आसानी से मिल जाएगी।
  • जब किसी भी लड़की या लड़के की शादी होती है तो उस वक़्त हल्दी की रस्म के बाद दोनो के हाथ में एक कंगना बाधा जाता है। ये कंगना दोनो को लोगों की बुरी नज़र और ऊपरी बाधा से बचाने के लिए बाधा जाता है क्यूँकि हल्दी लगे वर और वधू को बुरी नज़र और बुरे साये का प्रभाव बहुत जल्दी ही हो जाता है। जिसको सामान्य देहाती भाषा में जपटे में आना भी बोलते है। ये चाक़ू वाला कंगना शादी हो जाने की बाद ही उतारा जाता है वार और वधू के हाथ से।
  • अगर आप कही रात को सुनसान जगह पर जा रहे है और रास्ते में जंगल या अँधेरा पड़ता हो तो उस वक़्त आपको सुरक्षा देगा, एक लोहे का बड़ा चाक़ू जी हाँ उस लोहे के चाक़ू को आपको हाथ में लेकर चलना होगा, साथ ही आपके साथ उस वक़्त जितने भी लोग हो उन सब लोगों के हाथ में एक-एक चाक़ू का होना ज़रूरी होता है, क्यूँकि जिसके हाथ में चाक़ू होगा उसको ही सुरक्षा मिलेगी उस वक़्त उस जंगल या सुनसान इलाक़े में तो लोहे का चाक़ू सुनसान और वीरान जगह पर जहाँ हथियार का काम करेगा वही दूसरी और नकारात्मक शक्तियों से भी बचाव करेगा ये बहुत ही कारगर और पुराना उपाय है 

तो ये थी जानकारी चाक़ू ओर छुरी से जुड़ी हुई। इनको ज़रूर समझे और अपने अपनो को भी समझाये ।   

यह भी पढ़ें – धन की बरकत के चुंबकीय और  असरदार उपाय [टिप्स]