कॉर्नफ्लेक्स को इतना स्वास्थ्यवर्धक माना जाने लगा है कि इसे नियमित रूप से खाने की सलाह दी जाती है। यही कारण है कि वर्तमान में इसका सेवन बहुतायात में किया जा रहा है। न केवल बच्चे बल्कि बड़े-बुजुर्ग भी इसका भरपूर सेवन करने लगे हैं।

कॉर्नफ्लेक्स के लाभकारी प्रभाव

  • कॉर्नफ्लेक्स एक बेहद हल्का पदार्थ है। सुबह-सुबह खाली पेट खाने से पेट पर बोझ नहीं पड़ता है। यह मिनरल्स का खजाना है। इसके नियमित सेवन से आप कई बीमारियों को अपने शरीर से दूर रख सकते हैं।
  • दूध नहीं पीने वालों के लिए कॉर्नफ्लेक्स दूध का एक अच्छा विकल्प है। 100 ग्राम कॉर्नफ्लेक्स में एक लीटर दूध के बराबर प्रोटीन होता है।
  • 250 ग्राम कॉर्नफ्लेक्स में जितनी मात्रा में खनिज और विटामिन पाए जाते हैं वो 250 ग्राम मांस (गोश्त) से भी प्राप्त नहीं हो सकता है।
  • इसमें ऐसे फैटी एसिड पाए जाते हैं जो खराब कोलेस्ट्रॉल को कम कर अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाते हैं।
  • कुछ शोध के अनुसार भी कॉर्नफ्लेक्स शरीर में बुरे कोलेस्ट्रॉल को कम करते व अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाते हैं। हृदय रोगों से भी बचाते हैं।
  • सर्दियों में कॉर्नफ्लेक्स खाने से शरीर में गर्मी बनी रहती है।
  • कॉर्नफ्लेक्स में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, अत: यह शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर शरीर को विभिन्न रोगों से बचाता है।  कॉर्नफ्लेक्स प्रोटीन का अच्छा स्रोत होता है।
  • इसमें सामान्य अनाज की तुलना में 20 से 35 प्रतिशत तक अधिक प्रोटीन पाया जाता है वो भी बिना कोलेस्ट्रॉल के जबकि प्रोटीन के अन्य स्रोत जैसे मांस व अंडे में प्रोटीन के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल भी पाया जाता है।
  • कॉर्नफ्लेक्स में ल्यूटिन होता है जो आंखों के लिए फायदेमंद है।
  • यह गर्मी में पेट की बीमारी और शरीर का तापमान नियंत्रित रखने में मदद करता है। इसके सेवन से मधुमेह में भी राहत मिलती है।
  • यह हल्का व शीतल होता है। ग्रीष्मकाल में बेहद शीतलता प्रदान करता है। यह वीर्यवर्धक, रुचिकर, पथ्यग्राही, मीठा होता है।
  • कॉर्नफ्लेक्स में फाइबर भी भरपूर मात्रा में होता है जिसे खाने के बाद पेट देर तक भरा रहता है। ऐसे में अतिरिक्त कैलोरी लेने से बच जाते हैं और मोटापा नहीं बढ़ता है। यह त्वचा पर दिखाई देने वाली बढ़ती उम्र के निशान को भी रोकता है। नियमित रूप से इसका सेवन करने से त्वचा पर जल्दी झुर्रियां नहीं पड़ती हैं और त्वचा पर चमक बनी रहती है।
  • ऐसे लोग जिन्हें खड़े अनाज या उससे बनी वस्तुएं नहीं पचती हैं उन्हें कॉर्नफ्लेक्स आसानी से पच जाता है।
  • फॉयरिक एसिड जो शरीर में पाचक एंजाइम को अच्छे से कार्य नहीं करने देता, वह कॉर्नफ्लेक्स खाने से कम प्रभावशाली हो जाता है जिससे आहार में उपस्थित अन्य आवश्यक न्यूट्रियन्ट्स जैसे कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटैशियम, फास्फोरस व मैगनीज को शरीर में आसानी से अवशोषित कराता है।
  • इसी प्रकार एक और एंजाइम एमाइलेज जो आहार में पाए जाने वाले स्टार्च को आसानी से शर्करा में बदल देता है वो भी इसमें अधिक पाया जाता है।
  • कॉर्नफ्लेक्स में कुछ ऐसे तत्त्व मौजूद होते हैं जो पेट से जुड़ी कई समस्याओं में राहत देने का काम करते हैं। इसके नियमित सेवन से कब्ज की समस्या दूर हो जाती है। यह पाचन क्रिया को भी बेहतर रखने में मददगार है साथ ही इसके सेवन से गैस व एसिडिटी की समस्या से राहत मिलती ही है।
  • यह पचने में आसान होता है। इसका सेवन सुबह या दोपहर सिर्फ एक बार ही करना चाहिए। यह अपने आप में एक तरह से पूरा आहार है। यह एक सुपाच्य, हल्का, पौष्टिक व शीतल आहार है।

बरतें कुछ सावधानियां

इसके सेवन से जहां कई फायदे हैं वहीं नुकसान भी हैं जिनको आप थोड़ा ध्यान में रखकर दूर कर सकते हैं।

  • कॉर्नफ्लेक्स पोषक तत्त्वों से भरपूर है फिर भी एक वयस्क व्यक्ति को रोजाना 50-80 ग्राम से ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए अन्यथा आप मोटापा जैसी बीमारियों के शिकार भी हो सकते हैं।
  • कॉर्नफ्लेक्स खाने से यदि एलर्जी हो तो इसका सेवन न करें। अगर इसको खाने से कोई दिक्कत होती है और आपको लगता है कि एलर्जी रिएक्शन है तो फौरन डॉक्टर को दिखाएं।
  • इसके ज्यादा सेवन से हार्टबर्न की समस्या भी हो सकती है। अस्थमा, पीलिया या गैस बनने की शिकायत होने वाले व्यक्तियों को कॉर्नफ्लेक्स के सेवन से बचना चाहिए।
  • कॉर्नफ्लेक्स का सेवन भोजन के बाद कभी न करें। अधिक मात्रा में न खाएं। न ही रात में इसका सेवन करें।
  • कॉर्नफ्लेक्स का सेवन गरम प्रकृति के व्यक्तियों के लिए हानिकारक भी है। इसके ज्यादा खाने से पित्त बढ़ता है इसलिए सावधानी बरतें।
  • अगर कॉर्नफ्लेक्स में किसी भी प्रकार की बदबू अथवा रंग में परिवर्तन या फफूंद नजर आए तो इन्हें ना खाएं। यहां हमने आपको कॉर्नफ्लेक्स खाने के फायदे और नुकसान के बारें में बताया है। किसी चीज के हद से ज्यादा इस्तेमाल का स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ता है इसलिए किसी भी चीज की अति से बचें और अपना स्वास्थ्य बेहतर बनाएं।

यह भी पढ़ें –रोगों से मुक्ति पाने की शक्ति प्रदान करता है गंगाजल, नियमित करें प्रयोग