mother and daughter

ज्यादातर लोगों की यही धारणा हैं कि सास कभी मां नहीं बन सकती है, लेकिन ये कहां तक सही है कि सास कभी मां की जगह नहीं ले सकती है। पूरी तरह से नहीं कहा जा सकता कि सास कभी मां नहीं बन सकती क्योंकि मैंने कई ऐसी सास को भी देखा है जिसने अपनी बेटी से भी बढ़कर चाहा है अपनी बहु को, आखिर सास भी है मां का दूसरा रूप।

मैंने ऐसी बहु और सास को भी देखा है जो एक दूसरे की बुराई करते नहीं थकती लेकिन कभी इस नोकझोक के पीछे का प्यार देखा है। जब सास या बहु दोनों में से कोई एक बीमार पड़ता है, तब हम वो केयर और प्यार देखने को मिलता है जो एक मां या बेटी दे सकती है। अगर आपने ये प्यार नहीं देखा तो आप अपने सास की सेवा और सास अपनी बहु के कामों में हाथ बटाकर देख सकती हैं। ज़रूर आपको वो प्यार मिलेगा जो कहीं किसी अहंकार में गुम है।

जब आप एक दूसरे के साथ सहेली बन जाएगी तब आपको अहसास होगा मैं तो किसी और के पास नहीं अपनो के बीच हूं। जब तक हम एक दूसरे को अपनाते नहीं है, तभी तक अपने गैर नजर आते हैं इसलिए जरूरी है कि एक दूसरे को समझे और उनकी बुरी और अच्छी आदतों को अपनाएं।

ये भी पढ़ें-

इस ‘मदर्स डे’ ऐसे जताएं अपनी मां से प्यार

बॉलीवुड की इन बेटियों में दिखता है मां का आईना

इस मदर्स डे अपनी मां को दें एक प्यार भरी ‘झप्पी’

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकते हैं।