आपका चेहरा एक कैनवस की तरह होता है जिसे मेकअप के जादू से आप खूबसूरत रूप दे सकते हैं। इस कैनवस पर आपकी खूबसूरती के रंग बिखरें, इसके लिए सही मेकअप बेस का चुनाव बेहद जरूरी है। मेकअप बेस के नाम पर इतने विकल्प मौजूद हैं कि उनमें सही चुनाव बेहद कठिन है और अकसर सही बेस न होने के कारण आपका पूरा मेकअप और पूरा चेहरा अजीब हो जाता है। सही जानकारी के साथ चुना गया बेस आपके मेकअप और आपके चेहरे दोनों को ही एक परफेक्ट लुक देगा। परफेक्ट मेकअप बेस के चुनाव के खास टिप्स जानते हैं ब्यूटी एक्सपर्ट रेनू माहेश्वरी से।

जानें अपनी स्किन टाइप
अपने लिए सही मेकअप बेस का चुनाव करने के लिए सबसे पहले जरूरी है कि आप अपनी स्किन टाइप को पहचानें। यानी कि आपकी स्किन ड्राय है, ऑयली, कॉम्बीनेशन स्किन, सेंसिटिव या अन्य। ड्राय स्किन बेहद डल लगती है क्योंकि यह ऑयल रहित होती है और ऐसी त्वचा में चमक नहीं होती है। ऑयली स्किन जो चमकदार लगने के साथ ही ग्रीज़ी भी लगती है और इसमें सामान्य त्वचा की अपेक्षा रोमछिद्र बड़े होते हैं। मिश्रित त्वचा या कॉम्बीनेशन स्किन में गालों का क्षेत्र रूखा होता है लेकिन टी जोन यानी कि माथा, नाक और ठोढ़ी का क्षेत्र ऑयली होता है। अपनी स्किन टाइप या त्वचा की प्रकृति जानने के बाद मेकअप बेस के सही फॉर्मुला का चुनाव आसान हो जाता है।

क्रीम बेस्ड फाउंडेशन
रूखी त्वचा, सामान्य त्वचा या मिश्रित त्वचा वाले लोगों के लिए इस मेकअप बेस का इस्तेमाल परफेक्ट है। इसके लिए अपने मेकअप बेस की बॉटल पर लिक्विड, टिंटिड मॉयश्चराइजर, क्रीम या क्रीम-टू-पाउडर शब्द देखें।

पाउडर बेस्ड फांउडेशन
यह फॉर्मुला ऐसे लोगों के लिए सही है जिनकी त्वचा ऑयली, मिश्रित या सामान्य है। अगर आपकी त्वचा ड्राय है तो आप इसका इस्तेमाल न करें अन्यथा आपकी झुर्रियां और त्वचा का रूखापन और अधिक उभर जाएगा।

मॉयश्चररिच फाउंडेशन
यह केवल रूखी त्वचा वाले लोगों के लिए ही सही है। ये जरूरी नमी प्रदान करके आपकी त्वचा में महसूस होने वाले खिंचाव को दूर करने में मदद करेगा।

वॉटर बेस्ड या मैट
यह ऐसी त्वचा के लिए उपयुक्त हैं जो ऑयली या कॉम्बीनेशन स्किन हो। इस प्रकार का फॉर्मुला ऐसी त्वचा में ऑयल को कम दर्शाता है और आपकी त्वचा अधिक ग्रीज़ी नहीं लगती।

मेकअप कवरेज
अगला कदम है, यह तय करने का कि मेकअप बेस के लिए आपकी जरूरतें कैसी हैं। इसमें मौसम का भी ध्यान रखा जाना जरूरी है क्योंकि गर्मियों के मौसम के लिए लाइट कवरेज और सर्दियों के लिए थोड़ा ज्यादा या क्रीमी कवरेज वाला बेस अनुकूल होता है।

लॉन्ग वियरिंग फाउंडेशन
इस प्रकार के फार्मुला में ऐसे तत्व होते हैं जो देर तक मेकअप को टिकाए रखने में मदद करते हैं। यदि आपकी जरूरत ऐसे मेकअप बेस की है, जो देर तक टिका रहे तो यह आपके लिए उपयुक्त है।

लाइट रिफ्लेक्टिंग फाउंडेशन
यह रूखी और परिपक्व त्वचा के लिए बेहतरीन फॉर्मुला है। इस फॉर्मुला में ऐसे तत्व होते हैं जो रोशनी को त्वचा से परावर्तित करके डल या ड्राय कॉम्प्लेक्शन को खूबसूरत चमक देते हैं।

लाइट कवरेज
अगर आप एक अच्छी त्वचा की मलिका हैं और मेकअप में आपकी पसंद है नो मेकअप लुक तो आप अपने लिए चुनें लाइट कवरेज वाला बेस।

मीडियम कवरेज –
यह फॉर्मुला भी प्राकृतिक ही लगता है, लेकिन यह चेहरे के हल्के दाग-धब्बों और एज स्पॉट्स को छिपाने के लिए बेहद प्रभावी होता है। पाउडर, लिक्विड, क्रीम-टू-पाउडर और मिनरल बेस्ड फाउंडेशन मीडियम कवरेज में आते हैं।

फुल कवरेज
ऐसी महिलाएं जो त्वचा की असमान रंगत, निशानों और त्वचा की अन्य खामियों को छिपाना चाहती हैं उन्हें इस विकल्प का चुनाव करना चाहिए। स्टिक या कॉम्पेक्ट फॉर्म में क्रीम, क्रीम-टू-पाउडर, पाउडर फाउंडेशन और मिनरल बेस्ड फॉर्मुला सबसे उपयुक्त चुनाव है।