Posted inकथा-कहानी

गृहलक्ष्मी की कहानियां : संक्रांति मुबारक हो…

गृहलक्ष्मी की कहानियां: वैसे तो अपर्णा इस घर में अपने पति आबिद की पसंद से ब्याह कर आई थी परन्तु आज वह इस घर के हर सदस्य की चहेती बन गई थी। अपर्णा और आबिद का केवल अंतरजातीय नहीं वरन अन्तरधर्म विवाह हुआ था ।  इस वजह से कभी-कभार खान-पान, रहन-सहन, रीति-रिवाज और पहनावे को लेकर […]