Posted inकथा-कहानी

कौर का तराजू-गृहलक्ष्मी की कहानियां

Family Story: घर्र…. घर्र …मिक्सी की देर तक चलने वाली आवाज़ अक्सर नन्हे चिन्टू को खुशी से भर देती। आज भी वो आँगन में नाच रहा था। और बड़े से आँगन के बीचों बीच नई बनी दीवार के उस  पार बने आँगन में दरवाज़े के कुर्सी पर बैठी उसकी दादी मनोरमा देवी अनुमान लगा रहीं […]