Posted inउपन्यास

दौलत आई मौत लाई भाग-6

अपने बॉडीगार्डों के साथ कार्लो तान्जा ठीक दस बजे मसीनो के दफ्तर में पहुंचा। उसके अंगरक्षकों ने दो भारी सूटकेस मसीनो की डेस्क पर रख दिये। मसीनो की नजरें तान्जा से मिलीं तो वह धूर्तता से मुस्कराया। तान्जा छोटे-से कद का लेकिन भारी जिस्म का एक इटैलियन था। उसका सिर गंजा था। भारी तोंद वाले […]

Posted inउपन्यास

भूतनाथ-खण्ड-1/ भाग-6

जब इंदु होश में आई और उसने आँखें खोलीं तो अपने को एक सुन्दर मसहरी पर पड़े पाया और मय सामान कई लौडियों की खिदमत के लिए हाजिर देखकर ताज्जुब करने लगी। आँख खुलने पर इंदु ने एक ऐसी औरत को भी अपने सामने इज्जत के साथ बैठे देखा जिसे अब हकीमिन जी के नाम […]

Posted inपेरेंटिंग

बच्चों की बेहतर परवरिश के लिए इन बातों का रखें ध्यान

किसी बात पर अड़ जाना, नाराज़ होना, हठ करना, ऐसा स्वभाव जरूरी नहीं है कि किसी खास आयु वर्ग से जुड़ा है, क्योंकि ऐसा व्यवहार केवल बच्चों में ही नहीं, बल्कि किशोर, वयस्क और यहां तक कि बुजुर्गों में भी देखा जा सकता है। इस तरह के लक्षण ऐसे शख्स के साथ काम करने की चुनौतियों को और बढ़ाते हैं।

Posted inपेरेंटिंग

कहीं आप अपने बच्चों के दुश्मन तो नहीं?

बच्चों का पालन-पोषण एक आसान काम नहीं है। जैसे एक पौधा लगाने के लिए अच्छी किस्म के बीज, खाद, जगह ,उपजाऊ धरती ,हवा-पानी की जरूरत होती है उसी तरह अभिभावक को भी अपने बच्चों के लिए एक सही उदाहरण बनना पड़ता है। तभी उनके व्यक्तित्व का सही निर्माण होता है।

Posted inकथा-कहानी

मुझे कुछ कहना है…

Hindi kahani ‘Mughe kuch kahana hai ‘कला आत्मा का आनंद होती है। चाहे उससे आर्थिक संतुष्टि न हो, लेकिन आत्मा को सुकून ज़रूर देती है।’  मैं एक कवयित्री हूं। कविता पढ़ने का शौक बहुत था लेकिन मंच पर जा कर कविता पढूंगी, ऐसा कभी सोचा नहीं था। पढ़ते-पढ़ते कभी- कभी शौक चर्रा जाता था तो, […]

Posted inकथा-कहानी

पागल की हवेली – गृहलक्ष्मी कहानियां

समिधा को अपनी ससुराल, लखनऊ की पुस्तैनी हवेली, रास न आई। उसे यह हवेली कम, भुतहा महल ज्यादा लग रही थी। अब वह अपने मायके से, शिकायत भी नहीं कर सकती, उसी ने मनोज को चुना है। घर में सभी उसके चुनाव से प्रसन्न हो गए।

Posted inकथा-कहानी

एक लॉकडाउन ऐसा भी

कभी किसी ने सोचा भी नहीं होगा की पूरी दुनिया बस खिड़की से झांकती रह जाएगी। खिड़कियों से झांकती आंखों में दो जोड़ी आंखें सिया और जान्हवी की भी थीं . सिया और जान्हवी जो पुणे में अपनी फैमिली के साथ रहते थे. इधर लगभग पूरी दुनिया के राष्ट्र प्रमुख राष्ट्रों में लॉक डाउन की घोषणा

Posted inउत्सव

रथ पर सवार जगन्नाथ भगवान

Jagannath Rath Yatra 2022 Jagannath Rath Yatra : यह मौका होता है पुरी की प्रसिद्ध रथ यात्रा का। यात्रा के इन नौ दिनों में भक्त और भगवान के बीच कोई सीमा नहीं रह जाती, जात-पात का भेद तक मिट जाता है। सब रथ में सवार भगवान को ढोने का आनंद लेते हैं। भक्तों का विशाल […]